चीन की कमजोर मांग, नए कोविड स्ट्रेन वैश्विक व्यापार के लिए संभावित खतरे: ईईपीसी इंडिया

 चीन की कमजोर मांग, नए कोविड स्ट्रेन वैश्विक व्यापार के लिए संभावित खतरे: ईईपीसी इंडिया
china39s-weak-demand-new-covid-strains-potential-threat-to-global-trade-eepc-india

नई दिल्ली, 23 जुलाई (आईएएनएस)। ईईपीसी इंडिया ने कहा कि नए कोविड तनाव के साथ चीन में कमजोर मांग वैश्विक व्यापार के लिए संभावित खतरे हैं। हालांकि, ईईपीसी इंडिया ने कहा कि कई संभावित बाधाओं के बावजूद, चालू वर्ष के लिए भारत का व्यापार ²ष्टिकोण अब तक सकारात्मक रहा है। भारत से इंजीनियरिंग सामान का निर्यात पिछले चार महीनों में तीसरी बार 8 अरब डॉलर को पार कर गया। बहरहाल, भले ही अधिकांश उत्पाद खंडों में मजबूत मांग देखी गई, विमान और अंतरिक्ष यान के पुर्जे उन दो पैनलों में से थे, जो जून 2021 में मामूली रूप से डूबे थे। ईईपीसी इंडिया ने एक बयान में कहा, भारत से अधिकांश प्रमुख देशों में इंजीनियरिंग सामान के निर्यात में जून, 2021 में उच्च दोहरे अंकों की वृद्धि दर्ज की गई, जो वैश्विक व्यापार में सुधार को दर्शाता है। इस अवधि के दौरान चीन, सिंगापुर और मलेशिया में शिपमेंट तेजी से गिर गया। चीन को निर्यात, कच्चे माल का दुनिया का सबसे बड़ा खरीदार, मूल्य के लिहाज से जून, 2021 में 33 प्रतिशत घटकर 50.19 करोड़ डॉलर हो गया, जो पिछले साल इसी महीने में 74.71 करोड़ डॉलर था। संचयी आधार पर भी, चीन का निर्यात अप्रैल में 15.4 प्रतिशत गिर गया। वित्त वर्ष 2022 की जून की अवधि पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में 135.79 करोड़ डॉलर से बढ़कर 160.49 करोड़ डॉलर हो जाएगी। ईईपीसी इंडिया द्वारा व्यापार डेटा विश्लेषण के अनुसार, अमेरिका भारत के इंजीनियरिंग सामानों का शीर्ष आयातक बना रहा जिसके बाद संयुक्त अरब अमीरात का स्थान है। भारत के कुल इंजीनियरिंग सामान के निर्यात में करीब 78 फीसदी की हिस्सेदारी रखने वाले 25 प्रमुख बाजारों में से 21 देशों ने इस साल जून के दौरान सकारात्मक वृद्धि दर्ज की। अधिकांश उत्पाद श्रेणियों में प्रभावशाली वृद्धि देखी गई। 33 इंजीनियरिंग पैनल या उत्पाद खंडों में से, 31 पैनलों ने जून 2021 के दौरान जून 2020 के दौरान निर्यात में सकारात्मक वृद्धि देखी। निर्यात में गिरावट का अनुभव दो पैनलों में हुआ, जस्ता और उत्पादों में 5.1 प्रतिशत की गिरावट और विमान और अंतरिक्ष यान के पुजरें में मामूली (0.6 प्रतिशत) की गिरावट। ईईपीसी इंडिया के अध्यक्ष महेश देसाई के अनुसार, इंजीनियरिंग सामान क्षेत्र निर्यात में शीर्ष प्रदर्शन करने वालों में से एक रहा है। इसने जून में लगातार चौथे महीने में सालाना आधार पर 50 प्रतिशत या उच्चतर वृद्धि दर्ज की। इस अवधि के दौरान, इंजीनियरिंग सामान निर्यात अपने सर्वकालिक उच्च स्तर पर था। यह काफी खुशी की बात है लेकिन उद्योग कई चुनौतियों का सामना कर रहा है। घरेलू मोर्चे पर, कंटेनरों की भारी कमी, उच्च रसद लागत और स्टील जैसे प्रमुख कच्चे माल की कीमतें बढ़ रही है। बाहरी मोर्चे के संदर्भ में, देसाई ने कहा कि जापान, चीन और कोरिया सहित पूर्वी एशियाई विनिर्माण दिग्गजों में घरेलू मांग कम होने के कारण, इन देशों से निर्यात की मात्रा बढ़ रही है जो भारतीय निर्यातकों के लिए खतरा पैदा कर सकती है। --आईएएनएस एमएसबी/आरजेएस

अन्य खबरें

No stories found.