bcci-fears-loss-of-2000-crores-due-to-ipl-postponement
bcci-fears-loss-of-2000-crores-due-to-ipl-postponement
बाज़ार

आईपीएल स्थगित होने से बीसीसीआई को 2000 करोड़ के नुकसान की आशंका

news

नई दिल्ली, 04 मई (हि.स.)। कोरोना संक्रमण के कारण इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के मैचों को स्थगित कर दिया गया है। टूर्नामेंट के आयोजन के स्थगित हो जाने से भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को इस सीजन में करीब 2000 करोड़ों रुपये का नुकसान होने का अंदाजा लगाया जा रहा है। वहीं इसकी वजह से भारत सरकार के खजाने को भी करीब 600 करोड़ रुपये की चपत लगने की आशंका बन गई है। इतना ही नहीं अगर जल्दी ही देश में कोरोना पर काबू नहीं पाया जा सका, तो इसकी वजह से इस साल भारत की भूमि पर होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप के आयोजन पर भी खतरा मंडरा सकता है। अगर भारत से टी-20 वर्ल्ड कप की मेजबानी छिन गई, तो इससे भी भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड को करोड़ों रुपये का नुकसान हो सकता है। जिसका एक असर भारतीय खजाने को टैक्स के रूप मैं होने वाली एक बड़ी राशि के नुकसान के रूप में भी नजर आएगा। जानकारों के मुताबिक अभी तो आईपीएल के बाकी मैचों को स्थगित किया गया है, लेकिन इसके रद्द होने की भी काफी संभावना है। अगर ये मैच रद्द हो जाते हैं तो इससे बीसीसीआई को तो नुकसान होगा ही, भारत सरकार को भी टैक्स रेवेन्यू के रूप में बड़ा झटका लगेगा। आईपीएल से क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड को होने वाली कमाई का एक हिस्सा टैक्स रूप में भारत के खजाने को मिलता है। 2007-08 के बाद से अभी तक भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने 3500 करोड़ रुपये से अधिक की धनराशि टैक्स के रूप में अदा की है। अगर आईपीएल के बाकी मैच रद्द कर दिए जाते हैं तो स्वाभाविक रूप से भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड को भारी नुकसान होगा। बीसीसीआई को नुकसान होगा तो वो भारत सरकार के खजाने में टैक्स रेवेन्यू के रूप में भारी भरकम राशि भी जमा नहीं कर सकेगी। जिससे देश के राजस्व संग्रह पर प्रतिकूल असर पड़ेगा। आपको बता दें कि फिलहाल वर्ल्ड क्रिकेट इकोनॉमी लगभग 15000 करोड़ रुपये की है। इसमें सिर्फ आईपीएल की ही हिस्सेदारी लगभग 5000 करोड़ रुपये की है। यानी वर्ल्ड क्रिकेट इकोनॉमी में अकेले आईपीएल की हिस्सेदारी ही 33 फीसदी की है। यही कारण है कि आईपीएल को बीसीसीआई के अलावा दुनिया के सभी क्रिकेट खेलने वाले देशों का समर्थन मिला हुआ है आईपीएल के कारण कई देशों के खिलाड़ी खाली समय में अच्छी कमाई कर रहे हैं। लेकिन कोरोना संकट के कारण जिस ढंग से आईपीएल के मैचों को अभी स्थगित करना पड़ा है और आगे उन्हें रद्द करने की आशंका बन गई है, उससे भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के साथ ही दूसरे देश से आकर खेलने वाले खिलाड़ियों को भी भारी आर्थिक झटका लगने की आशंका बन गई है। इसके पहले आईपीएल के 13वें सीजन के समय कोरोना संकट के कारण टूर्नामेंट के रद्द होने की बात उठी थी। उस वक्त क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के तत्कालीन राजस्व अधिकारी अरुण धूमल ने साफ कहा था कि टूर्नामेंट रद्द होने की स्थिति में बीसीसीआई को 4000 करोड रुपये तक का नुकसान उठाना पड़ सकता है। हालांकि बाद में यूएई में आईपीएल का आयोजन हो जाने के कारण बीसीसीआई बड़े नुकसान से बच गई थी। इस सीजन में आईपीएल के शुरुआती मैच तो हो गए हैं, लेकिन अभी भी कई मैच खेले जाने बाकी हैं। इसी आधार पर अनुमान लगाया जा रहा है कि अगर आईपीएल को पूरी तरह से रद्द करने के फैसले पर सहमति बनी तो बीसीसीआई को कम से कम 2000 करोड़ रुपये तक का नुकसान उठाना पड़ सकता है। एक मोटे अनुमान के मुताबिक आईपीएल से भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड को सालाना 11 बिलियन डॉलर की कमाई होती है। लेकिन इस सीजन में आईपीएल के आधे से ज्यादा मैचों के स्थगित हो जाने के कारण बीसीसीआई को करारा झटका लगने की आशंका बन गई है। हिन्दुस्थान समाचार/योगिता/सुनीत