बोधघाट परियोजना के नाम पर जनप्रतिनिधि बना रहे दूरी : प्रकाश ठाकुर

बोधघाट परियोजना के नाम पर जनप्रतिनिधि बना रहे दूरी : प्रकाश ठाकुर
बोधघाट परियोजना के नाम पर जनप्रतिनिधि बना रहे दूरी : प्रकाश ठाकुर

31 जुलाई को सर्व आदिवासी समाज की बैठक में तय होगी बोधघाट परियोजना की दिशा और दशा दंतेवाड़ा, 25 जुलाई (हि.स.)। जिले के बोधघाट परियोजना शुरू होने की खबरों के बीच प्रभावित गांवों में हलचल शुरू हो गयी है। शनिवार को बस्तर संभाग सर्व आदिवासी समाज के अध्यक्ष प्रकाश ठाकुर ने बताया कि बोधघाट परियोजना के महत्वपूर्ण बिंदुओं पर चर्चा करने के लिए बस्तर संभाग के जन प्रतिनिधियों के साथ समाज की बैठक आज बुलायी गयी थी। बोधघाट परियोजना वास्तव में बस्तर के हित में है या नहीं इसकी जानकारी जनप्रतिनिधियों के माध्यम से प्राप्त करना था। लेकिन इस बैठक में विधायकों की अनुपस्थिति से यह जाहिर होता है कि इस परियोजना के नाम पर कुछ न कुछ अहित की भावना जरूर छुपी हुई है। इसीलिए जनप्रतिनिधि इस बैठक से दूरी बना रहे हैं। उन्होंने बताया कि इस संबंध में पुन: 31 जुलाई को सर्व आदिवासी समाज की बैठक बुलायी गई है, जिसमें बोधघाट परियोजना को लेकर दिशा और दशा तय होगा। बोधघाट परियोजना को लेकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बस्तर के सांसद, विधायक सहित जन प्रतिनिधियों की एक बड़ी बैठक की थी। इसमें बस्तर के सभी नेताओं ने परियोजना के निर्माण पर अपनी सहमति दी है। लेकिन अब इस परियोजना को लेकर विरोध शुरू हो गया है। बस्तर संभाग सर्वआदिवासी समाज ने बस्तर के सारे नेताओं को सामाजिक बैठक में उपस्थित होकर जवाब देने का प्रस्ताव रखा था। लेकिन बैठक में कुछ नेताओं को छोड़ कर कोई उपस्थित नहीं हुआ। प्रभावित ग्राम की सरपंच बसंती राणा ने बताया कि 17 पंचायतों के सरपंचों की एक बैठक हो चुकी है। इन पंचायतों के आश्रित गांवों में भी ग्रामीणों की अलग-अलग बैठक हो गयी है। लेकिन हम बाहर निकल कर विरोध नहीं जता पा रहे हैं। कोरोना संक्रमण के चलते हम सब सावधानी बरत रहे हैं। इसीलिए अभी तक आंदोलन नहीं किए हैं। बसंती आगे कहती हैं, लाखों की संख्या में हम संभाग, जिला मुख्यालय पहुंच कर इसका विरोध करेंगे। क्षेत्र में काइयों को लालच दे कर सरकार उन्हें हम से बात करने के लिए भेज रही है। ग्रामीणों का आरोप है कि चार दशक से बंद पड़ी परियोजना को अचानक क्यों कोरेना के समय बनाने की बात कही जा रही है? इससे किसी का फायदा नहीं है बस्तर का पूरा क्षेत्र विनष्ट हो जाएगा। हिन्दुस्थान समाचार/राकेशपांडे-hindusthansamachar.in

अन्य खबरें

No stories found.