bhilainagar-plant-worker-cheated-three-lakhs-in-the-name-of-hiring-a-post-of-constable-crime-registered
bhilainagar-plant-worker-cheated-three-lakhs-in-the-name-of-hiring-a-post-of-constable-crime-registered
news

भ‍िलाईनगर : आरक्षक के पद पर नौकरी लगाने के नाम पर संयंत्र कर्मी ने की तीन लाख की ठगी, अपराध दर्ज

news

भिलाई नगर, 08 अप्रैल (हि. स.)। जिला पुलिस बल में आरक्षक के पद पर नौकरी लगाने के नाम पर संयंत्र कर्मी द्वारा धोखाधड़ी किए जाने का मामला प्रकाश में आया है। इस दौरान आरोपित के द्वारा तीन लाख 10 हजार रुपये की ठगी की गई है। गुरुवार को पीड़ित की शिकायत पर नंदनी पुलिस के द्वारा आरोपित के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया है। नंदनी पुलिस ने बताया कि संतोष साहू उम्र 50 साल निवासी ग्राम बागडूमर का निवासी है। संतोष साहू ने परिचित भीमराज साहू 46 एच रिसाली सेक्टर बीएसपी में नौकरी करता है। भीमराज साहू ने संतोष साहू के समक्ष अपना परिचय बड़े-बड़े अधिकारियों एवं नेता मंत्री से होना बताया था। संतोष साहू ने झांसे में आकर अपनी लड़की कुमारी यामिनी साहू वर्ष 2017 में पुलिस आरक्षक भर्ती परीक्षा में भाग लेने जिला राजनांदगाव में आवेदन किया था । जिसके संबध में भीमराज से चर्चा किया था। वर्ष 2017 में भीमराज घर आया और यामिनी साहू को पुलिस आरक्षक पद पर नौकरी लगा देने का वादा किया, जिसके लिये तीन लाख 10 हजार रुपये लगेगा। तब संतोष साहू ने अपने बेटी के नौकरी लगाने के लिये भीमराज साहू के बातों में आकर पैसे की व्यवस्था के लिये अपने गांव के हेमंत सतनामी से कुल दो लाख 50 हजार रुपये उधारी लिया था तथा अपने पास रखे 60 हजार रुपये को पांच किस्तों में भोज राम साहू को घर जाकर तीन लाख 10 हजार रुपये दिए थे। यामिनी साहू के प्रवेश पत्र की छायाप्रति भी भीमराज साहू को दिया था। वर्ष 2020 में पुलिस भर्ती निरस्त होने पर भीमराज साहू रुपये वापस करने के लिए टालमटोल करता रहा। बार बार अपना रकम वापस मांगने पर भीमराज साहू ने 17 जुलाई 2020 को एक 100 रुपये के स्टांप पेपर में इकरारनामा कर भारतीय स्टेट बैक शाखा रिसाली के खाता क्रमांक 30915359763 के चार नग चेक क्रमांक 775131, 775132, 775133, 775134 को हस्ताक्षर कर के दिया था। एक-दो माह बाद पैसा चेक लगाकर निकाल लेना। संतोष ने चेक क्रमांक 775132 में 3,10,000 रुपये की रकम भरकर अपने शाखा भारतीय स्टेट बैंक नंदिनी टाउनशीप में जमा किया जो बैंक में भीमराज का हस्ताक्षर का मिलान नहीं होना तथा खाता में पर्याप्त रकम नहीं होने से चेक अनादरित हो गया। तब भीमराज के घर चेक बाउंस की जानकारी एवं रकम मांग करने गया तो तब पता चला कि रिश्तेदार गोवर्धन साहू निवासी ग्राम ननकठठी से भी भीमराज मंत्रालय में डाटा इंट्री आपरेटर के पद पर नौकरी लगाने हेतु तीन लाख 50 हजार रुपये लेकर उन्हे भी अपने खाते का दो चेक देकर धोखाधड़ी किया है। संतोष साहू की रिपोर्ट पर से आरोपित भीमराज साहू के खिलाफ नंदनी पुलिस द्वारा आज दोपहर को भादवि की धारा 420 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया है। हिन्दुस्थान समाचार/अभय जवादे