बड़ी खबरें

कंपनियों में हेराफेरी की जांच आपराधिक श्रेणी में हो

कंपनियों में हेराफेरी की जांच आपराधिक श्रेणी में हो

मुंबई  रिजर्व बैंक (आरबीआई) गवर्नर रघुराम राजन ने आज कहा कि हेराफेरी कर निवेशकों को चूना लगाने वाली कंपनियों के प्रवर्तकों के खिलाफ आपराधिक मामला बनाकर जाँच की जानी चाहिये श्री राजन ने आज यहाँ एक कार्यक्रम के दौरान कहा कारोबार में हेराफेरी कर पैसा कमाना कंपनी को ऋण देने वालों और उसमें निवेश करने वालों के प्रति अपराध है तथा ऐसे मामलों की जाँच भी उसी तरह की जानी चाहिये हालाँकि उन्होंने यह भी कहा कि प्रवर्तक द्वारा खाताबही में हेराफेरी अच्छा प्रदर्शन करने वाली किसी नवोदित कंपनी को बंद कर उसके श्रमिकों को बेरोजगार कर देने का कारण नहीं होना चाहिये
www.navabharat.com
पूरी स्टोरी पढ़ें »

©Copyright Indicus Netlabs 2018. Raftaar ® is a registered trademark of Indicus Netlabs Pvt. Ltd.