घायल दुर्लभ ब्लैक बाज के स्वास्थ्य में तेजी से हो रहा है सुधार अरुण पांडे Hindi Latest News 

बड़ी खबरें

घायल दुर्लभ ब्लैक बाज के स्वास्थ्य में तेजी से हो रहा है सुधार : अरुण पांडे

घायल दुर्लभ ब्लैक बाज के स्वास्थ्य में तेजी से हो रहा है सुधार : अरुण पांडे

जगदलपुर, 21 मई (हि.स.)। बस्तर संभाग के बीजापुर के चेरपाल से दुर्लभ प्रजाति का ब्लैक बाज घायल अवस्था में वनकर्मियों द्वारा बरामद किया था। बीजापुर डीएफओ दिनेश कुमार साहू ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया था कि शिकारियों के द्वारा इसे घायल कर दिया गया था। जिससे वह उड़ने की स्थिति में नहीं होने से 19 मई को रायपुर नन्दनवन

उपचार के लिए भेजा गया था। नन्दनवन के डॉक्टरों के दो दिनों के उपचार के बाद ब्लैक बाज के स्वास्थ में तेजी से सुधार हो रहा है। पूरी तरह से डॉक्टरों द्वारा स्वास्थ होने की रिपोर्ट के बाद उसके नैसर्गिक आवास में वापस छोड़ दिया जायेगा। छत्तीसगढ़ के अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्यप्राणी) अरुण कुमार पांडेय ने गुरुवार को बताया कि बीजापुर से वन विभाग ने दुर्लभ ब्लैक बाज को घायल अवस्था में रायपुर नन्दनवन में उपचार के लिए लाया गया था। नन्दनवन के डॉक्टरों ने अच्छी तरह देखभाल कर इस दुर्लभ ब्लैक बाज को बचाने में कामयाब हुए हैं, फिलहाल डॉक्टरों की निगरानी में ब्लैक बाज के स्वास्थ्य में तेजी से सुधार हो रहा है। पांडेय ने बताया कि नन्दनवन के रेंजरों ने बताया कि ब्लैक बाज आज खाने में मटन कीमा अच्छी तरह से खाया है। डॉक्टरों की रिपोर्ट मिलने के बाद उसे वापस नन्दनवन से बीजापुर उसके नैसर्गिक आवास में छोड़ने के लिए रवाना कर दिया जाएगा। उल्लेखनीय है कि यह दुर्लभ ब्लैक बाज पक्षी विलुप्त होती प्रजाति में शुमार है, छत्तीसगढ़ में सिर्फ बस्तर में ही देखने को मिलता है। यह कांगेरवेली, दंतेवाड़ा एवं बीजापुर के पटनम के वन क्षेत्रों में देखा गया है। यह ब्लैक बाज पक्षी दक्षिण भारत के साथ-साथ श्रीलंका दक्षिण एशिया के क्षेत्रों में भी पाये जाते हैं। ब्लैक बाज बस्तर में पाई जाने वाली बाज की दुर्लभ प्रजाति में से एक है। बीजापुर के पटनम के जंगलों में एक दो बार इसपक्षी को देखा गया है, जहां उनका नैसर्गिक आवास माना जाता है। हिन्दुस्थान समाचार/राकेश पांडे
... क्लिक »

hindusthansamachar.in

अन्य सम्बन्धित समाचार