बोरियत-से-भरी-कमज़ोर-फिल्म-है-द-एक्सिडेंटल-प्राइम-मिनिस्टर |Accidental Prime Minister Movie Review Anupam Kher Akshaye Khanna बोरियत फिल्म द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर Hindi Latest News 


बड़ी खबरें

बोरियत से भरी कमज़ोर फिल्म है द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर

बोरियत से भरी कमज़ोर फिल्म है द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर

फिल्म 'द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर' की कहानी संजय बारू की इसी नाम की किताब से है और पूरी तरह से उन्हीं के नजरिए से है कहानी शुरू होती है 2004 में लोकसभा चुनाव में यूपीए की जीत के साथ कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी खुद पीएम बनने के बजाय डॉक्टर मनमोहन सिंह को पीएम पद के लिए चुनती हैं लेकिन फिर किस तरह सरकार मनमोहन सिंह नहीं बल्कि हाईकमान सोनिया गांधी के इशारों पर चलती है इस बीच में प्रधानमंत्री मनोमोहन सिंह अपने मीडिया एडवाइज़र के रूप में पत्रकार संजय बारू को रखते हैं संजय बारू के मुताबिक वो लगातार मनमोहन सिंह को अपनी अलग पहचान बनाने और अपने फैसले लेने के लिए कहते रहते हैं
abpnews.abplive.in
पूरी स्टोरी पढ़ें »

अन्य सम्बन्धित समाचार


abpnews.abplive.in से अधिक समाचार