21वीं सदी में जीवंत हुई वैदिक कालीन शास्त्रार्थ परंपरा Hindi Latest News 

बड़ी खबरें

21वीं सदी में जीवंत हुई वैदिक कालीन शास्त्रार्थ परंपरा

21वीं सदी में जीवंत हुई वैदिक कालीन शास्त्रार्थ परंपरा

सैकड़ों हजारों वर्ष पुरानी भारत की प्राचीन संस्कृति व वैदुष्य परंपरा में फिर से जान फूंकने की कोशिश शुरू हो गई है। याज्ञवलक्य व विदुषी गार्गी (700 ईसवी पूर्व/बीसी) और आदि शंकराचार्य व मंडन मिश्र (800 ईसवी/एडी) के बीच जो वैज्ञानिक व सारगर्भित शास्त्रार्थ हुआ वह इतिहास के पन्नों में दर्ज है। भारत ... क्लिक »

ubindianews.com