संयमित रहकर जनहित में फैसले ले रही राज्य सरकार, कोरोना से जंग जीतने में होंगे सफल : कांग्रेस
संयमित रहकर जनहित में फैसले ले रही राज्य सरकार, कोरोना से जंग जीतने में होंगे सफल : कांग्रेस
news

संयमित रहकर जनहित में फैसले ले रही राज्य सरकार, कोरोना से जंग जीतने में होंगे सफल : कांग्रेस

news

रायपुर, 07 सितंबर (हि.स.)। छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिये फैसलों का स्वागत किया है। प्रदेश कांग्रेस संचार प्रमुख शैलेश नितिन त्रिवेदी ने सोमवार को बयान जारी कर कहा कि विपरीत परिस्थितियों के बावजूद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंह देव और पूरी सरकार जिस तरह से संयमित रहकर जनहित में फैसले ले रही है, उससे यह आशा छत्तीसगढ़ में बलवती हो रही है कि हम सब कोरोना के खिलाफ लड़ाई जीतने में सफल होंगे। कोरोना मरीजों को निशुल्क दवाई वितरण, बेड की संख्या बढ़ाई जाने जैसे जनहितकारी फैसलों से करुणा से लड़ने और जीतने का छत्तीसगढ़ का संकल्प और दृढ़ हुआ है। आज छत्तीसगढ़ के सरकारी कर्मचारी, अधिकारी, सफाईकर्मी, स्वास्थ्य कर्मी, डॉक्टर, पुलिसकर्मी, पंचायती राज संस्थाओं के ग्राम पंचायत से लेकर जिला पंचायत तक के पदाधिकारी और पंचायत कर्मी पूरी ताकत से कोरोना के खिलाफ लड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में इस लड़ाई में अनेक योद्धाओं ने अपनी जान तक गंवाई है। कोरोना महामारी की समस्या से सिर्फ छत्तीसगढ़ी ही नहीं पूरा देश और पूरा विश्व जूझ रहा है। शैलेश त्रिवेदी ने कहा कि छत्तीसगढ़ में टेस्टिंग बढ़ाए जाने और केंद्र सरकार द्वारा आवागमन में ढिलाई दिए जाने के परिणाम स्वरूप कोरोना संक्रमण के मामलों की संख्या भी बढ़ी है और छत्तीसगढ़ सरकार ने इसे गंभीरता से लेते हुए कोरोना के खिलाफ लड़ाई को तेज करते हुए लगातार महत्वपूर्ण फैसले लिए हैं। शुरू से छत्तीसगढ़ सरकार ने तेजी से फैसले लेते हुए परिस्थितियों के अनुरूप राज्य में जनहित में फैसले लिए और इसी का परिणाम है कि देश में करोना के मरीजों की मृत्यु दर 1.73% है लेकिन छत्तीसगढ़ में यह इसकी आधी से भी कम मात्र .84% ही है। त्रिवेदी ने कहा कि छत्तीसगढ़ में कोरोना की जांच के लिए लैब की सुविधा पहले सिर्फ रायपुर में थी, लेकिन छत्तीसगढ़ सरकार ने युद्ध स्तर पर कदम उठाते हुए छत्तीसगढ़ में टेस्टिंग की लैब जगदलपुर, अंबिकापुर, राजनांदगांव, बिलासपुर जैसे स्थानों भी स्थापित की और अब सरकार प्रतिदिन बाईस हजार सैंपल टेस्ट करने के लक्ष्य के साथ काम कर रही है। टेस्टिंग बढ़ने से मरीजों का आइसोलेशन और कोरोना संक्रमण पर बेहतर नियंत्रण संभव हुआ है। हिन्दुस्थान समाचार /चंद्र नारायण शुक्ल-hindusthansamachar.in