शंकराचार्य हॉस्पिटल में अब तक 1008 मरीजों का इलाज, 929 पूर्णतः स्वस्थ,  रिकवरी रेट बेहतर
शंकराचार्य हॉस्पिटल में अब तक 1008 मरीजों का इलाज, 929 पूर्णतः स्वस्थ, रिकवरी रेट बेहतर
news

शंकराचार्य हॉस्पिटल में अब तक 1008 मरीजों का इलाज, 929 पूर्णतः स्वस्थ, रिकवरी रेट बेहतर

news

भिलाईनगर, 7 सितंबर (हि. स.)। शंकराचार्य हॉस्पिटल स्थित कोविड केअर सेंटर में रिकवरी रेट उम्मीद जगाता है। यहां भर्ती किये गए 1008 मरीजों में 929 मरीज पूर्णतः स्वस्थ हो गए हैं। अभी 48 मरीजों का इलाज चल रहा है। 31 मरीजों की मृत्यु हुई है। कलेक्टर डॉ सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे व्यवस्था पर निरंतर नजर रखे हुए हैं। कोविड प्रोटोकॉल के मुताबिक सीटी स्कैन और ऑक्सीजन सिलेंडर की सुविधा यहाँ उपलब्ध है। खाने में रिच प्रोटीन हो, इसका भी ध्यान रखा जा रहा है। इस संबंध में सोमवार को कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने बताया कि शंकराचार्य कोविड हाॅस्पिटल में 50 बिस्तर वाला वार्ड में संपूर्ण सेंट्रलाईज ऑक्सीजन सप्लाई की सुविधा है। इसके साथ ही 100 बिस्तर का वार्ड तैयार किया गया जिसमें आक्सीजन सिलेण्डर की व्यवस्था की गई है। इस अस्पताल में आईसीएमआर की गाईड लाईन को ध्यान में रखते हुये ईलाज किया जा रहा है। वर्तमान में एक्स-रे व लैब की व्यवस्था के साथ सी.टी. स्केन की भी व्यवस्था की गई है। गत दिनों खानपान व साफ-सफाई को लेकर शिकायत की गई थी जिसमें जिला प्रशासन ने त्वरित अस्पताल का निरीक्षण किया जिसमें पाया गया कि अस्पताल का साफ-सफाई की अच्छी व्यवस्था की गई है। इसके अलावा मरीजों को पौष्टिक भोजन भी उपलब्ध कराया जा रहा है। जिला प्रशासन के कार्यवाही पर वर्तमान अस्पताल में सभी सुविधा उपलब्ध है। इसके लिए कल ही शंकराचार्य प्रबंधन के साथ महत्वपूर्ण बैठक ली थी। इसमें कोविड को लेकर महत्वपूर्ण निर्देश दिए थे। बैठक में निर्देशित किया था कि कोविड में रिस्पांस टाइम का बेहद महत्व है। मरीजों के इलाज में लगे कोविड वारियर्स मरीजों की नियमित अंतराल पर बेसिक जांच करते रहें। ऑक्सीजन सपोर्ट की स्थिति में त्वरित कार्रवाई करें। साफ-सफाई की मॉनिटरिंग बेहद जरूरी है। मरीजों के पीछे नर्सिंग स्टाफ पर्याप्त होने चाहिए ताकि मरीजों को राहत मिलती रहे। कोविड प्रोटोकॉल के मुताबिक कोरोना वारियर की सुरक्षा भी अहम है। इसके लिए ट्रेनिंग भी कराई जा चुकी है। उन्होंने बुजुर्ग मरीजों पर विशेष ध्यान दिए जाने के निर्देश भी दिये हैं। कलेक्टर ने बताया कि इनके साथ आयु से जुड़ी हुई अन्य परेशानियां भी होती हैं। हिंदुस्थान समाचार/अभय जवादे-hindusthansamachar.in