लाकडाउन के वावजूद लगातार हो रहे राजनीतिक आयोजन, यह कैसी दोहरी नीति
लाकडाउन के वावजूद लगातार हो रहे राजनीतिक आयोजन, यह कैसी दोहरी नीति
news

लाकडाउन के वावजूद लगातार हो रहे राजनीतिक आयोजन, यह कैसी दोहरी नीति

news

बलरामपुर, 01 अगस्त (हि.स.)। जिलें में कोविड 19 के संक्रमण काल मे लागू लॉक डाउन और धारा 144 प्रभावशील है। इसके निर्धारित नियमों का पालन नहीं करनें पर शनिवार को बलरामपुर शहर के दो व्यवसायीयों पर अपराध दर्ज किया गया है तो वही दूसरी तरफ जिले के सामरी विधानसभा विधायक व संसदीय सचिव चिंतामणि महराज के एक के बाद एक उनके स्वागत और जनसम्पर्क, बैठक के कार्यक्रम आयोजित किया जा रहे है। अब इन दोनों मामलों में सबसे अहम बात उभर कर आ रही है कि एक तरफ अपराध दर्ज कराने के दावे तो वही दूसरी तरफ सत्ताधारी दल के राजनीति गतिविधियों पर स्थानीय प्रशासन के बगैर अनुमति आयोजन पर चुप्पी दोहरी नीति को सामने ला रही है। आपको बताते चलें कि बीते 29 जुलाई को सामरी विधायक व संसदीय सचिव चिंतामणि महाराज का एक प्रोटोकाल ब्लाक कांग्रेस कमेटी शंकरगढ़ की ओर से जारी हुआ था। जिसमे बूथ लेवल से लेकर पार्टी के अन्य पदाधिकारियों को विधायक के स्वागत कार्यक्रम में आमंत्रित किया गया और बैठकों और जनसम्पर्क अभियान की सूचना सें संबंधित मामले में ब्लाक कांग्रेस कमेटी का प्रोटोकॉल व जिला प्रशासन के उस आदेश की खुलेआम उलंघन कर रहा, जिसमे यह स्पष्ट रूप से उल्लेखित है कि जिले में 26 जुलाई से 2 अगस्त की मध्यरात्रि तक लॉक डाउन व सार्वजनिक गतिविधियों पर रोक लगाई गई हैं। इस दौरान केवल अति आवश्यक होने पर क्षेत्रीय दंडाधिकारियों से अनुमति लेना अनिवार्य कर दिया गया था। आदेश के उलंघन पर विधि संगत कार्यवाही का हवाला भी दिया गया था। बावजूद इसके ना केवल सामरी विधायक चिंतामणि महराज का कार्यक्रम आयोजित हुआ वरन उन्होंने जनसम्पर्क करते हुए, बैठके भी ली। जहाँ मौजूद लोगों की तादाद लगभग शासन द्वारा निर्धारित संख्या से कही अधिक थी। वहीं दूसरी तरफ इस गतिविधि के दौरान संबंधित क्षेत्र में स्थानीय पुलिस महकमे को इसकी जानकारी होने के वावजूद भी पुलिस अमला भी चुप्पी साधे मौन स्वीकृति प्रदान करने वाली मुद्रा में है। वही अब इस मामले को लेकर जब एसडीएम कुसमी दीपक निकुंज सें चर्चा किया गया तो उन्होंने इस मामले पर अनभिज्ञता जाहिर करते हुए कहा कि मामले को संज्ञान में लेकर आवश्यक कार्यवाही करेंगे। बहरहाल कोविड 19 के संक्रमण काल मे जब लोगो को घरों पर रहने की हिदायत दी जा रही है..ऐसे समय मे माननीय के स्वागत और बैठक के कार्यक्रम से क्या साबित होगा यह समझ से परे है और आमजनों पर तो प्रशासन के आदेश उलंघन के मामले दर्ज हो रहे है, पर क्या माननीय पर मामले दर्ज होंगे? हिन्दुस्थान समाचार/विक्की-hindusthansamachar.in