रोजमर्रा के सामानो की जमकर मुनाफा खोरी हो रही है Hindi Latest News 

बड़ी खबरें

रोजमर्रा के सामानो की जमकर मुनाफा खोरी  हो रही है

रोजमर्रा के सामानो की जमकर मुनाफा खोरी हो रही है

रोजमर्रा के सामानों की जमकर की मुनाफाखोरी जारी है, दस रूपये का मास्क तीस रूपये में बेचा जा रहा है गिरिडीह, 23 मार्च ( हि. स.) । कोरोना वायरस के खिलाफ झारखंड में लॉकडाउन के बीच सोमवार को गिरिडीह के बाजार में मेले जैसा माहौल ऱहा । खुबह होते ही लोग रोजमर्रा की खरिददारी में जूट गए। इस दौरान लॉकडाउन

की आड़ में मुनाफा खोरों ने जमकर मनमानी शुरु कर दी है । साग- सब्जी से लेकर आटा-चावल और महज 10, 12 रूपये का मास्क चौक -चौराहों पर 50 से लेकर 100 रूपये जोड़े में बेचा जा रहा है । यही हॉल सब्जियों का रहा । पटल ,भीण्डी ,टमाटर ,शिमला मिर्च ,गाजर 80 से 120 रूपये प्रति किलोगाम और आलू ,प्याज 20 से 40 रूपये प्रति किलो ग्राम बैचे गए । मुनाफाखोर यह कहकर बेचते रहे कि आज इस भाव में है कल के बाद शायद कोइ भाव में न मीले । उधर सरकारी राशन की शहरी क्षेत्र की दूकानों में एसएफसी के गोदाम में गेहूं के स्टोक के अभाव में डोर स्टेप डिलेवरी के तहत आनाज की आपूर्ति वाधित है । जिसके के कारण गिरिडीह शहरी क्षेत्र एंव धनवार नगर पांचायत में सरकारी दूकानों में गरीबों को मार्च का अनाज अभी तक नहीं दिया जा सका है। गिरिडीह के गोदाम प्रबंधक ने कहा कि गेहूं आने के बाद शहर की पीडीएस दूकानों में गेहूं ,चावल भेजा जायेगा। इस बीच सोमवार को पांच किलोग्राम आटे की पैकेट 150 से 180 रूपये प्रति पैकेट बैची गाई। इस बीच गिरिडीह के एसडीएम राजेश प्रजापति एवं डीएसपी विनोद रवानी ने जमाखोरो और कालाबाजारी करने वालों के खिलाफ किराना मंडी में जांच शुरु की है ।एसडीएम ने कहा कि रोजमर्रा के सामानों की कमी नहीं है । जो लोग ऐसा कर रहे हैं।उन्हें चिन्हित किया जा रहा है । हिन्दुस्थान समाचार/कमलनयन
... क्लिक »

hindusthansamachar.in