योग दिवस पर पूरी काशी वर्चुअल रूप से योगमय नजर आई, उल्लास व उमंग के साथ लोगों ने किया डिजिटली योग
योग दिवस पर पूरी काशी वर्चुअल रूप से योगमय नजर आई, उल्लास व उमंग के साथ लोगों ने किया डिजिटली योग
news

योग दिवस पर पूरी काशी वर्चुअल रूप से योगमय नजर आई, उल्लास व उमंग के साथ लोगों ने किया डिजिटली योग

news

—'घर पर करें योग और परिवार के साथ करें योग' थीम पर योगाभ्यास —डीएम बोले, कोरोना काल में जहां प्रिवेंशन ही क्योर है, ऐसे समय में योग का बढ़ा महत्व वाराणसी, 21 जून (हि.स.)। अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस पर रविवार को पूरी काशी वर्चुअल रूप से योगमय नजर आई। कोराना संक्रमण काल में लोगों ने खुले मैदान में सामूहिक आयोजन से बचते हुए उल्लास और उमंग के साथ डिजिटल माध्यम से शारीरिक दूरी बनाकर योग किया। खराब मौसम और बारिश के बावजूद लोगों ने 'घर पर करें योग और परिवार के साथ करें योग' थीम पर योगाभ्यास किया। शहरी अंचल के साथ जिले के ग्रामीण अंचल में भी लोगों ने पूरे उत्साह से आनलाइन योग किया। वाराणसी जिला प्रशासन की ओर से ऑनलाइन योग दिवस मनाया गया। जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा के नेतृत्व में बनारस क्लब में आयोजित योग साधना शिविर में सरकार व प्रदेश सरकार के प्रोटोकॉल के अनुसार अफसरों और कर्मचारियों ने योगासन किया। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने कहा कि योग विद्या भारत की एक बहुत पुरातन भारतीय संस्कृति से जुड़ी हुई विद्या है। योग पहले ही से किया जाता रहा है, लेकिन प्रधानमंत्री की प्रेरणा से यह अंतररार्ष्ट्रीय स्तर पर योग दिवस के रुप में मनाया जाने लगा है। आज गांव-गांव, शहर-शहर में स्कूल, कालेजों के अलावा विभिन्न क्लबों के माध्यम से भी योग प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित किए जाते हैं। उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी को देखते हुए आज यह कार्यक्रम हर जगह छोटे-छोटे समूहों में संचालित हो रहे हैं। कोई वृहद कार्यक्रम नहीं किया जा रहा है। उन्होंने लोगों से अपील की कि आप सभी योग को अपना कर निरोगी बने और दूसरों को भी प्रेरित करें। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में जहां प्रिवेंशन ही क्योर है, ऐसे समय में योग का महत्व और बढ़ जाता है। योग में कई ऐसे आसन व प्रणायाम है, जिससे शरीर की बहुत अच्छी प्रतिरोधक क्षमता विकसित की जा सकती है। कई ऐसे आसन हैं जिससे यदि कोरोना रोग हो भी जाये, तो ठीक किया जा सकता है। मुख्य विकास अधिकारी मधुसूदन हुल्गी ने शिविर में आये अधिकारियों का धन्यवाद ज्ञापन किया। उन्होंने विशेष रूप से नेहरु युवा केंद्र तथा यूनिसेफ का सहयोग देने के लिए आभार व्यक्त किया। योग शिविर में विक्रमादित्य मलिक आईएएस, सीएमओ, पीडी डीआरडीए, अंतरराष्ट्रीय एथलीट नीलू मिश्रा,डीडीओ सहित नेहरू युवा केन्द्र के वालेंटियर्स व अन्य लोगों ने योग शिविर में प्रतिभाग किया। योग दिवस पर डीजल रेल इंजन कारखाना परिसर में भी कर्मचारियों ने योग के प्रति उत्साह दिखायाा। आभासी मंच (वर्चुअल प्लेटफार्म) के माध्यम से अफसरों, कर्मचारियों के साथ प्रशिक्षु कर्मियों ने भागीदारी की। रामनगर के राजकीय बाल गृह में रहने वाले किशोरों ने योग किया। महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में 12 घंटे कार्यक्रम योग दिवस पर महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ व एसोसिएशन ऑफ योग इंस्ट्रक्टर ऑफ मलेशिया के संयुक्त तत्वावधान में सुबह आठ से शुरू वर्चुअल योगाभ्यास कार्यक्रम रात आठ बजे तक चलेगा। कुलपति प्रो. टीएन सिंह ने बताया कि विश्व में पहली बार 12 घंटे का वर्चुअल योग कार्यक्रम आयोजित हो रहा है। उन्होंने बताया कि मलेशिया में आयोजित वर्चुअल योगाभ्यास विश्वविद्यालय के तकनीकी सहयोग से आयोजित हो रहा है। इसका संयोजन योग प्रशिक्षक डा. हरेराम पांडेय कर रहे है। 12 घंटे के वर्चुअल योगाभ्यास में 70 देशों के करीब एक लाख लोग सहभाग कर रहे है। काशी विद्यापीठ के इंडोर स्टेडियम में सुबह सात बजे से प्रतीकात्मक योग कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें सूर्य नमस्कार, पश्चिमोत्तानासन, मयूर आसान, एकपाद सिरासन, शीर्षासन, कुक्कुटासन, गर्भासन, चक्रासन, धनुरासन, गोमुखासन का अभ्यास किया गया। हिन्दुस्थान समाचार/श्रीधर/उपेन्द्र/मोहित-hindusthansamachar.in