मजदूर से मालिक बना रामनाथ, प्रतिदिन 45 लीटर दूध विक्रय से हो रही अच्छी आमदनी
मजदूर से मालिक बना रामनाथ, प्रतिदिन 45 लीटर दूध विक्रय से हो रही अच्छी आमदनी
news

मजदूर से मालिक बना रामनाथ, प्रतिदिन 45 लीटर दूध विक्रय से हो रही अच्छी आमदनी

news

रायपुर, 30 जुलाई (हि.स.)। दूसरे के घरों में रोजी-मजदूरी कर जीवन-यापन करने वाला कांकेर जिले के चारामा विकासखण्ड के ग्राम आंवरी निवासी रामनाथ यादव अब आत्मनिर्भर बन चुका है, वह प्रतिदिन 45 लीटर दूध बेचकर अच्छी आमदनी प्राप्त कर रहा है। दूसरे के घरों में नौकर लगकर गाय-बैल चराने वाला रामनाथ आज स्वावलंबी बन चुका है। दो देशी गाय से गौ-पालन का कार्य शुरू करने वाला रामनाथ यादव आज 22 पशुधन का मालिक बन गया है, उनकी यह सफलता मंत्रमुग्ध करने वाला है और लोगों के लिए प्रेरणादायी भी है। कांकेर जिले के प्रभारी सचिव धनंजय देवांगन और कलेक्टर के.एल. चौहान ने उन्हें उनकी सफलता के लिए बधाई देते हुए उसके पुत्र साजन कुमार को 22 गायों से बढ़ाकर 100 गायों का डेयरी बनाने के लिए प्रोत्साहित किया। रामनाथ यादव ने बताया कि लगभग 15 वर्ष चरवाहा का काम करने के बाद दूसरे के द्वारा दिये गये दो देशी गाय से गौ-पालन प्रारंभ किया। देशी गाय में कृत्रिम गर्भाधान से उन्नत नस्ल के मादा वत्स पैदा हुई, बड़ी होने के बाद उन्हें भी कृत्रिम गर्भाधान कराया गया, धीरे-धीरे उन्नत नस्ल के बछिया-बछड़ों की संख्या बढ़ती गई, जो बड़े होकर गाय एवं बैल बने। बैल को विक्रय किया गया तथा गाय के 2 लीटर दूध को बेचने के साथ ही दुग्ध व्यवसाय का कार्य प्रारंभ किया गया। वर्तमान में उनके द्वारा 45 लीटर दूध का विक्रय किया जा रहा है। रामनाथ यादव ने कहा कि आज मेरे पास लगभग 5 लाख रूपये की 22 पशुधन हैं, जिसमें 2 गाय एच.एफ. नस्ल, 2 गाय गिर नस्ल, 4 गाय शाहीवाल नस्ल और 4 गाय जर्सी नस्ल के हैं, इसके अलावा 6 उन्नत नस्ल के बछिया और 4 बछड़ा हैं, जिसे जोड़ी बनाकर बेचने से अतिरिक्त आमदनी होगी। रामनाथ यादव ने बताया कि छत्तीसगढ़ शासन द्वारा शुरू की गई ‘गोधन न्याय योजनांतर्गत गांव के गौठान में प्रतिदिन लगभग 150 किलोग्राम गोबर का विक्रय कर रहा हॅू, जिससे 300 रूपये की प्रतिदिन की आमदनी हो रही है। उन्होंने बताया कि इससे पूर्व गोबर को गांव के किसानों को बेच देता था, लेकिन अब इसे गौठान में बेच रहा हॅू। हिन्दुस्थान समाचार/गायत्री प्रसाद-hindusthansamachar.in