बोनस को लेकर प्रबंधन ने अपनाया अड़ियल रवैया, सीटू के आह्वान पर कर्मियों ने किया प्रदर्शन
बोनस को लेकर प्रबंधन ने अपनाया अड़ियल रवैया, सीटू के आह्वान पर कर्मियों ने किया प्रदर्शन
news

बोनस को लेकर प्रबंधन ने अपनाया अड़ियल रवैया, सीटू के आह्वान पर कर्मियों ने किया प्रदर्शन

news

भिलाई नगर, 14 अक्टूबर (हि. स.) । हिंदुस्तान स्टील एंप्लाइज यूनियन (सीटू) ने बोनस को लेकर प्रबंधन के अड़ियल रवैये के खिलाफ बोरिया गेट पर गुरुवार को प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के दौरान सीटू ने कहा कि बिना सहमति वेतन से अंशदान कटौती, एकतरफा स्थानांतरण, आउट सोर्सिंग के बाद बोनस बैठक में प्रबंधन का अड़ियल रवैया संयंत्र के हित में नहीं है। लॉक डाउन के दौरान संक्रमण के जोखिम का सामना करते हुए सेल की साख को बनाए रखने वाले कर्मचारियों को यथोचित बोनस से वंचित रखने के प्रबंधन के रवैये के खिलाफ प्रातः 8 बजे से 9 बजे तक बोरिया गेट पर एकत्र होकर विरोध प्रदर्शन किया। उल्लेखनीय है कि बोनस के लिए ऑनलाइन बैठक में प्रबंधन ने 13,000 व 11,000 के बोनस देने का प्रारंभिक प्रस्ताव रखा । सभी यूनियनो ने पिछले साल से ज्यादा बोनस देने के प्रस्ताव के साथ चर्चा शुरू करने की मांग की। काफी जद्दोजहद के बाद प्रबंधन ने पिछले साल के बराबर बोनस देने का प्रस्ताव रखा एवं उसी पर अडिग रही । प्रबंधन के अड़ियल रवैये के विरोध के साथ बैठक समाप्त हो गई। प्रबंधन ने एकतरफा घोषणा कर दी कि पिछले वर्ष की तरह बीएसपी, डीएसपी, आरएसपी, बीएसएल ,आईएसपी, आरएमडी (माइंस) -15,500 अन्य संयंत्रों, सीएमओ, यूनिट ऑफिसेस, आरएमडी हेडक्वार्टर - 13,500, सभी संयंत्रों के नॉन एग्जीक्यूटिव ट्रेनीज़ को 13,500 बोनस दिया जाएगा। सीटू नहीं करेगा बोनस बैठक के मिनट्स पर हस्ताक्षर प्रबंधन ने यह भी घोषणा कर दी कि पिछले वर्ष दिए गए बोनस के बराबर इस वर्ष भी दिये जाने वाले बोनस से संबंधित भुगतान आदेश की प्रतिलिपि सभी यूनियनों को भेज दी जाएगी। साथ ही ऑनलाइन बैठक में शामिल हुए यूनियन प्रतिनिधियों से हस्ताक्षर लेने हेतु अलग-अलग संयंत्र के कार्मिक प्रमुखों को मिनट्स की कॉपी भेजी गई है किंतु सीटू ने बैठक में ही छोटे संयंत्रों के लिए 13500 एवं बड़े संयंत्रों के लिए 15500 बोनस पर अपनी सहमति देने से इनकार कर दिया एवं आज सभी संयंत्रों में विरोध प्रदर्शन कर इस बात को भी साफ कर दिया कि सीटू बोनस को लेकर प्रबंधन द्वारा किए गए कार्रवाई का विरोध करता है तथा प्रबंधन द्वारा भेजे गए निर्णय के मिनिट्स पर दस्तखत नहीं करेगा। हिन्दुस्थान समाचार/अभय जवादे-hindusthansamachar.in