बिजली के ट्रांसफॉर्मर की चपेट में आने से लंगूर हुआ घायल, उपचार के लिए भेजा मैत्री बाग जू
बिजली के ट्रांसफॉर्मर की चपेट में आने से लंगूर हुआ घायल, उपचार के लिए भेजा मैत्री बाग जू
news

बिजली के ट्रांसफॉर्मर की चपेट में आने से लंगूर हुआ घायल, उपचार के लिए भेजा मैत्री बाग जू

news

भिलाईनगर, 16 सितंबर (हि. स.)। वार्ड 35 महिला भवन त्रिमूर्ति चौक, बांधा तालाब, गंजपारा, दुर्ग में दोपहर को बिजली के ट्रांसफार्मर की चपेट में आने से लंगूर बुरी तरह से घायल हो गया था। इस घायल लंगूर को वन विभाग की टीम के साथ नोवा नेचर एनजीओ के सदस्यों द्वारा सुरक्षित पकड़ कर मैत्री गार्डन जू विभाग के सुपुर्द किया गया जिससे कि उसका जीवन बचाया जा सके। स्थानीय रहवासी द्वारा वनविभाग दुर्ग के परीक्षेत्रीय अधिकारी (रेंजर) सुयश धर दीवान को फोन के माध्यम से सूचना दी गई। ट्रांसफार्मर की चपेट से आने से लंगूर एक ही जगह बैठ गया है ,घायल लंगूर जिस झुंड के साथ आया था वह सभी चले गये हैं घायल लंगूर को गली के कुत्तों के द्वारा परेशान किया जा रहा है संभवत कुत्तों के काटने से घायल लंगूर के जान को खतरा है घायल होने के कारण लंगूर जमीन पर रहते हुए चल रहा है यह सूचना मिलते ही रेंजर सुयश धर दीवान ने बिना विलम्ब किये लंगूर का सही उपचार हो सके इसके लिए मौके स्थल पर पहुंचे घायल लंगूर का रेस्क्यू कर उसे उपचार के लिये ले जाने के लिये टीम बनाई गई। वन विभाग की टीम के साथ नोवा नेचर वेल्फेयर सोसाइटी से अजय कुमार को बुलाकर शामिल किया गया घायल लंगूर का रेस्क्यू करते वक्त किसी को काट ना ले उस का भी ख्याल रखा गया । बंदरों के रेस्क्यू करने में पारंगत नोवा नेचर के सदस्य अजय कुमार ने बड़ी ही सावधानी से घायल लंगूर का रेस्क्यू कर वन विभाग के परिक्षेत्र अधिकारी के दिशा निर्देश पर मैत्री बाग़ भिलाई के डॉक्टर एनके जैन डीजीएम की मौजूदगी में उपचार के लिए लंगूर को मैत्री बाग छोड़ा गया। महिला भवन के अंदर लंगूर बैठ गया ताकि कुत्ते उसे काट ना ले महिला भवन के अंदर बैठे घायल लंगूर का रेस्क्यू वन विभाग और नोवा नेचर द्वारा किया गया। बिजली के ट्रांसफार्मर की चपेट में आने से लंगूर का एक पैर पूरी तरह काम करना बन्द हो गया था जिस वज़ह से रेस्क्यू कर उपचार के लिये मैत्री बाग़ भेजा गया, ताकि घायल अंगूर के जीवन को बचाया जा सके। हिंदुस्थान समाचार/अभय जवादे-hindusthansamachar.in