बड़ी खबरें

बाबाओं की बांबियों में कैद महिलाएं

बाबाओं की बांबियों में कैद महिलाएं

यह कमोबेश सुनिश्चित मान लेना चाहिए कि भारतीय समाज विशेषतया पुरुष समाज अब काफी हद तक पौरुषहीन हो चुका है। निर्लज्ज कथित आध्यात्मिक बाबाओं की फेहरिस्त में जुड़ा नवीनतम नाम वीरेंद्र देव दीक्षित है और उसके कारनामे राष्ट्र की राजधानी से होते हुए बरास्ता राजस्थान उत्तरप्रदेश अब मध्यप्रदेश के इंदौर तक में गूंज रहे हैं। यह नया बाबा पिछले कई दशकों से छोटी-छोटी बच्चियों के माध्यम से उनके माता-पिता को पुरुषार्थ बेच रहा था। लड़कियां इसके आश्रम में अबोध अवस्था में आईं और अब वे प्रौढ़ता को प्राप्त हो चुकी हैं। बाबा उनके माता-पिता को महीने के पैसे भी भेजता था। क्यों? यह तो बाबा ही बता
www.deshbandhu.co.in
पूरी स्टोरी पढ़ें »

©Copyright Indicus Netlabs 2018. Raftaar ® is a registered trademark of Indicus Netlabs Pvt. Ltd.