बस्तर संभाग में मलेरियाके मामलों में 65.53 प्रतिशत की आई कमी
बस्तर संभाग में मलेरियाके मामलों में 65.53 प्रतिशत की आई कमी
news

बस्तर संभाग में मलेरियाके मामलों में 65.53 प्रतिशत की आई कमी

news

जगदलपुर, 16 अक्टूबर (हि.स.)। बस्तर संभाग में मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान के शासकीय आंकडे के अनुसार संभाग में सितंबर 2019 की तुलना में सितंबर 2020 में मलेरिया के मामलों में 65.53 प्रतिशत की कमी आई है। पिछले सितंबर में संभाग के सातों जिलों में जहां मलेरिया के कुल 4230 प्रकरण मिले थे, वहीं इस साल सितम्बर में कुल 1458 मामले ही सामने आए हैं। यदि शासकीय आंकड़े सही हालात बयां कर रहे हैं तो यह बस्तर जैसे वनांचल क्षेत्रों के लिए जहां स्वास्थ की सुविधाए नगण्न्य हैं, बड़ी उपलब्धि है। यदि यह सिर्फ कागजी आंकड़े हैं, तो इसका उतना ही नुकसान बस्तर को होगा। मलेरिया मुक्त बस्तर अभियान के शासकीय आंकड़ों के अनुसार पिछले सितंबर की तुलना में इस सितंबर में मलेरिया के मामलों में कांकेर जिले में 75.2 प्रतिशत,कोंडागांव में 73.1 प्रतिशत, सुकमा में 71.9 प्रतिशत, बीजापुर में 71.3प्रतिशत, नारायणपुर में 57 प्रतिशत, बस्तर में 54.7 प्रतिशत और दंतेवाडा में 54 प्रतिशत की कमी आई है। कांकेर जिले में पिछले सितम्बर में जहां मलेरिया के 491 प्रकरण थे, वहीं इस साल केवल 122 मामले सामने आए हैं। कोंडागांव में पिछले वर्ष के 294 मामलों की तुलना में इस साल 79, सुकमा में 480 की तुलना में 135, बीजापुर में 1314 की तुलना में 377, नारायणपुर में 328 की तुलना में 141, बस्तर में 594 की तुलना में 269 तथा दंतेवाड़ा में पिछले वर्ष के 729 मामलों की तुलना में इस वर्ष 335 मामले मलेरिया के दर्ज किए गए हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार मलेरिया मुक्तबस्तर अभियान के अंतर्गत इस वर्ष जनवरी फरवरी में इसका पहला चरण और जून-जुलाई में दूसरा चरण संचालित किया गया था। पहले चरण में 14 लाख छह हजार लोगों की मलेरिया जांच कर पॉजिटिव पाए गए 64 हजार 646 लोगों का पूर्ण उपचार किया गया था। वहीं दूसरे चरण में कोरोना संक्रमण से बचने की चुनौतियों के बीच स्वास्थ्य विभाग की टीम ने 23 लाख 75 हजार लोगों की जांच कर मलेरिया पीड़ित 30 हजार 076 लोगों को इलाज उपलब्ध कराया गया। हिन्दुस्थान समाचार/ राकेश पांडे-hindusthansamachar.in