बच्चों को निशुल्क शिक्षा देने वाले दिव्यांग दर्जी का पाली छग पत्रकार संघ ने किया सम्मान
बच्चों को निशुल्क शिक्षा देने वाले दिव्यांग दर्जी का पाली छग पत्रकार संघ ने किया सम्मान
news

बच्चों को निशुल्क शिक्षा देने वाले दिव्यांग दर्जी का पाली छग पत्रकार संघ ने किया सम्मान

news

कोरबा, 07 सितम्बर ( हि. स. )। मौजूदा वर्ष वैश्विक महामारी की वजह से स्कूलों के पट बंद पड़े है। जिससे अध्ययन- अध्यापन कार्य पूरी तरीके से प्रभावित हुआ है। मगर संकट के इस दौर में बच्चों का वर्तमान शिक्षा सत्र शून्य ना हो जाए, इसलिए दिव्यांग दर्जी चमन सिंह द्वारा शिक्षक के रूप में अपना दायित्व निभाते हुए मोहल्ला क्लास संचालित कर प्राथमिक शाला के बच्चों को निशुल्क शिक्षा प्रदान किया जा रहा है। जिनका छ.ग. श्रमजीवी पत्रकार कल्याण संघ, ब्लाक इकाई पाली द्वारा सोमवार को सम्मान किया गया, साथ ही उन्हें अध्यापन कार्य से संबंधित आवश्यकता वाली सामाग्री भी उपलब्ध कराई गई। पाली विकासखण्ड के ग्राम पंचायत बकसाही स्कूल मोहल्ला (सुरगुजिहापारा) में परिवार सहित निवास करने वाले 40 वर्षीय दिव्यांग चमनसिंह मरकाम पेशे से दर्जी है जो कपड़ा सिलाई कर अपने परिवार का भरण- पोषण करता है। दिव्यांग चमनसिंह बीते जुलाई माह से नियमित मोहल्ला क्लास संचालित कर कक्षा पहली से पांचवी तक के बच्चों को निशुल्क रूप से पढ़ा रहे है जो काबिले तारीफ है। इस दिशा पर चमनसिंह का कहना है कि कोरोना संकट के वर्तमान हालात में शिक्षण संस्था बंद है। ऐसे में बच्चों का मौजूदा सत्र शून्य ना होने पाए इसलिए अपने कार्य के अलावा अपने ग्राम के उन बच्चों को शिक्षा ग्रहण कराते हुए भविष्य संवारने के लिए प्रयासरत हूँ। चमनसिंह ने निशुल्क मोहल्ला क्लास संचालित कर यह साबित कर दिया कि भले ही परिस्थिति विपरीत ही क्यों ना हो पर विद्यादान की परिपाटी कभी खत्म नही हो सकती। संकट के इस बुरे दौर में शिक्षा का अलख जगा रहे सेवाभावी गुरु चमनसिंह का छग श्रमजीवी पत्रकार कल्याण संघ, ब्लाक इकाई पाली के पदाधिकारियों में संरक्षक कमल वैष्णव, अध्यक्ष कमल महंत, वरिष्ठ उपाध्यक्ष दीपक शर्मा, सचिव तारकेश्वर पटवा, सह सचिव ओम जायसवाल सहित सदस्य सुरेंद्र ठाकुर, शंकर दीवान, संतराम पटेल, हिमांशु डिक्सेना, बाटू महंत द्वारा मिलकर उन्हें प्रोत्साहित करते हुए और हौसला अफजाई कर शाल, श्रीफल एवं कलम भेंट कर सम्मान किया गया। साथ ही आवश्यकता अनुरूप उन्हें ब्लेकबोर्ड, चाक, डस्टर, चार्ट व बच्चों के लिए सेनिटाइजर उपलब्ध कराया गया। शिक्षण संस्थान बंद काल मे बच्चों के भविष्य की चिंता करते हुए लगातार अध्यापन कार्य कराते हुए सराहनीय एवं पुनीत कार्य कर रहे चमनसिंह निश्चित ही साधुवाद के पात्र है।क्योंकि उनके द्वारा किया जा रहा प्रयास वंदनीय तो है ही साथ ही यह बच्चों के लिए काफी कारगर भी साबित हो रहा है। हिन्दुस्थान समाचार / हरीश तिवारी-hindusthansamachar.in