पुलिस बन रही मददगार भूखे प्यासे लोगाें को भोजन कराने में जुटी Hindi Latest News 

बड़ी खबरें

पुलिस बन रही मददगार, भूखे प्यासे लोगाें को भोजन कराने में जुटी

पुलिस बन रही मददगार, भूखे प्यासे लोगाें को भोजन कराने में जुटी

पुलिस बन रही मददगार, भूखे प्यासे लोगाें को भोजन कराने में जुटी हरिद्वार, 28 मार्च (हि.स.)। लॉकडाउन के दौरान पुलिस की अनूठी भूमिका सामने आ रही है। पुलिस की इस भूमिका ने जनता में खाकी के प्रति अपनी सोच को बदलकर रख दिया है। लॉकडाउन में जहां पुलिस के कंधे पर उसको सख्ती से लागू कराने की जिम्मेदारी हैं वहीं

लॉकडाउन में फंसे भूखे-प्यासे यात्रियों, मजदूरों, गरीबों, लावरिस पशुओं सहित जरूरतमंदों के लिए मददगार के रूप में सामने आ रही है। इस विपदा की घड़ी में वास्तव में पुलिस की छवि लोगों में मसीहा के रूप में देखी जा रही है। हालांकि जरूरत पड़ने पर पुलिस समाज के दुश्मन व गैर जिम्मेदार लोगाें के लिए एक कड़क सिपाही के रूप में पेश भी आ रही है। देश में कोरोना वायरस का प्रकोप जिस तेजी से बढ़ रहा हैं उसको रोकने के लिए देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सम्पूर्ण देश में लॉकडाउन की घोषणा की है। इसको लागू कराने के लिए प्रधानमंत्री ने सभी प्रदेश सरकारों से आग्रह किया है। उत्तराखण्ड में भी लॉकडाउन में प्रदेश की जनता को शुरुआती दौर में रोजमर्रा की जरूरत की चीजों के लिए सुबह 7 से 10 बजे तक खरीददारी की छूट दी थी। अब छूट की सीमा तीन घण्टे से बढा कर 6 घण्टे यानि दोपहर 1 बजे तक कर दी गई है। लॉकडाउन को सख्ती से लागू कराने की जिम्मेदारी पुलिस के कंधे पर है लेकिन यहां पर पुलिस लॉकडाउन को सख्ती से लागू कराने के साथ-साथ मानवता भरा कार्य भी कर रही है। लॉकडाउन को सख्ती से लागू करते हुए बेवजह सड़कों पर घूमने वाले या फिर वाहनों को दौड़ने वालों के साथ सख्ती दिखा रही है। इसके विपरीत लॉकडाउन में फंसे जरूरतमंदाें की मदद से भी पीछे नहीं है। लॉक डाउन में फंसे कुछ यात्री या फिर सिडकुल फैक्टरी में कार्यरत मजदूरों के घर जाने की कोई व्यवस्था न होेने पर वह पैदल ही अपने गतंव्याें की ओर रवाना हो रहे हैं। इनके खाने व पानी की व्यवस्था पुलिस द्वारा समाजिक संस्थाओं या फिर अपने स्तर से करायी जा रही है। कोतवाली नगर पुलिस ने मदद करने के क्रम में एक कदम आगे बढ़ी है। इसने अपने क्षेत्र के असहाय लोगों के लिए व्यवस्था के लिए विशेष इंतजाम किये हैं। अगर कोई व्यक्ति जरूरतमंद चीजों के लिए नहीं जा सकते तो अपनी बॉलकनी या फिर छत पर लाल कपड़ा डाल दें। पुलिस उनकी जरूर की चीजों की व्यवस्था में मदद करेगी। इतना ही नहीं अगर कोई गरीबाें की मदद करना चाहता हैं तो सफेद कपड़ा डाल दें। इससे पुलिस वहां पहुंचकर उनकी मदद ले सके। हिन्दुस्थान समाचार/रजनीकांत
... क्लिक »

hindusthansamachar.in