निलंबित कार्यपालन यंत्री पर वेतन रोकने का लगा आरोप
निलंबित कार्यपालन यंत्री पर वेतन रोकने का लगा आरोप
news

निलंबित कार्यपालन यंत्री पर वेतन रोकने का लगा आरोप

news

कोरिया,14 अक्टूबर(हि.स.)। खाड़ा जलाशय के फूटने के बाद जल संसाधन विभाग में कई तरह की अनियमितता का खुलासा सामने आने लगा है। जानकारी के अनुसार जल संसाधन विभाग में अब जलाशय में हुए भ्रष्टाचार को दबाने का प्रयास तेजी से किया जा रहा है। इधर, विभाग के उप यंत्री ने नवपदस्थ कार्य पालन यंत्री को पत्र देकर अपनी स्थिति स्पष्ट की है ।उनके पत्र में उन्होंने बताया है कि पूर्व उप यंत्री ने डीपीआर से लेकर कोई भी दस्तावेज और काम का प्रभार नही सौंपा, जिस उपयंत्री के साथ उन्हें काम करने को कहा गया वो एक भी दिन जलाशय की साइट पर नही गए, एसडीओ ने पत्र लिखकर बताया कि उक्त जलाशय का जुलाई 2020 तक का भुगतान कार्यपालन यंत्री के निर्देश पर कर दिया गया है। इस से साफ है कि जो काम उप यंत्री के द्वारा किया जाना था उसे एसडीओ और कार्यपालन यंत्री ने मिलकर कर ठेकेदार का भुगतान कर दिया है। ऐसे में अब उप यंत्री को उच्चधिकारियों के दौरे के दौरान दस्तावेज लेकर नही उपस्थित होने का आरोप लगा उस से जवाब मांगा जा रहा है। इधर, उप संभाग मनेन्द्रगढ़ में कार्यरत उप अभियंता व्ही.के. गुप्ता को अनुपस्थित बताकर कार्यपालन अभियंता ने उनके वेतन पर रोक लगा दी। अनुविभागीय अधिकारी जल संसाधन उप संभाग मनेंद्रगढ द्वारा उप संभाग में कार्यरत समस्त अधिकारियों कर्मचारियों के साथ एक ही प्रपत्र में मेरा मई व जून के पूरे कार्यकाल का पे डाटा, ड्यूटी रिपोर्ट संभागीय कार्यालय में वेतन भुगतान कराने हेतु प्रस्तुत किया गया था कार्यपालन अभियंता द्वारा सभी अधिकारी कर्मचारियों का दोनों माह का वेतन भुगतान कराया गया था ,किन्तु मेरा वेतन भुगतान रोक दिया गया। वर्तमान में निलंबित कार्यपालन अभियंता के तत्समय के पत्रों को उप अभियंता द्वारा आर.पी. लाल एवं आर.एस. जायसवाल के समक्ष अनुविभागीय अधिकारी कार्यालय में अनुविभागीय अधिकारी एस.के. पाण्डेय ने स्वीकार किया था कि वे मुझे उच्चाधिकारियों के दौरा कार्यक्रम के संबंध में सूचित करना भूल गये थे। उन्होने अपने पत्र में लेख किया है कि उच्चाधिकारियों के दौरा कार्यक्रम के संबंध में मुझे ही उनसे दूरभाष पर संपर्क कर लेना था। जिस पर मुझे 16 जुलाई से अवैतनिक किया गया जो अनुचित है। हिन्दुस्थान समाचार/महेन्द्र पाण्डेय-hindusthansamachar.in