कोरोना के चलते उप्र की सभी सीमाएं सील करने निर्देश Hindi Latest News 

बड़ी खबरें

कोरोना के चलते उप्र की सभी सीमाएं सील करने के निर्देश

कोरोना के चलते उप्र की सभी सीमाएं सील करने के निर्देश

कोरोना के चलते उप्र की सभी सीमाएं सील करने के निर्देश -आपदा से निपटने को प्रदेश में स्थापित होगा इंटीग्रेटेड कमांड सेंटर -मुख्यमंत्री योगी ने ग्रामीण क्षेत्रों में भी क्लीनिंग और सेनिटाइजेशन के दिये निर्देश -लॉकडाउन वाले जिलों में सप्लाई चेन को व्यवस्थित किया जाए: योगी लखनऊ, 23 मार्च (हि.स.)। कोरोना वायरस के विरुद्ध जारी जंग के तहत मुख्यमंत्री योगी

आदित्यनाथ ने सोमवार रात में उत्तर प्रदेश से लगने वाली सभी सीमाओं को पूरी तरह से सील करने के निर्देश दिए। ग्रामीण क्षेत्रों में भी उन्होंने क्लीनिंग और सेनिटाइजेशन की व्यवस्था करने को कहा है। मुख्यमंत्री योगी आज रात 5 कालीदास मार्ग स्थित अपने सरकारी आवास पर लॉकडाउन जनपदों की समीक्षा बैठक संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने अधिकारियों से कहा कि कोई भी नया व्यक्ति प्रदेश में प्रवेश न करने पाए। उन्होंने कहा कि पब्लिक ट्रांसपोर्ट बंद होने के कारण जो लोग अपने घरों तक नहीं पहुंच पाए हैं और सड़कों पर हैं, जिला प्राशासन परिवहन विभाग की बसों के माध्यम से उन्हें उनके घर भेजने की व्यवस्था करे। इसके साथ ही लोकल स्तर पर फंसे लोगों को पीआरवी 112 से भेजा जाए। योगी ने कहा कि सामानों की सप्लाई करने वाले वाहनों को रोका न जाए। प्रदेश में आवश्यक खाद्य सामग्री की किसी भी प्रकार की कमी नहीं होनी चाहिए। कालाबाजारी पर पूरी तरह से रोक लगाई जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि पैरा मेडिकल स्टाफ की छात्र और छात्राओं को वापस बुलाकर उन्हें ट्रेनिंग दी जाए। इसके साथ ही जो लोग क्वारनटाइन और कोरोना पॉजिटिव हैं, लेकिन उनका रवैया असहयोगात्मक है, ऐसे लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाए। प्रदेश में कहीं भी लोगों का जमावड़ा न लगे मुख्यमंत्री ने इसका विशेष ध्यान रखने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि जल्द से जल्द दिहाड़ी मजदूरों के अकाउंट में डीबीटी के माध्यम से एक साथ एक हजार रुपये की सहायता राशि भेजें। उन्होंने कहा कि ठेला-खुमचा, रेहड़ी वालों के साथ ही रिक्शा और ई-रिक्शा वालों को भी इससे जोड़ते हुए जाए और उनके अकाउंट में भी सहायता राशि भेज दें। यही नहीं अतिरिक्त खाद्यान्न की व्यवस्था कर इन सभी को राशन भी वितरित करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि समाज कल्याण विभाग दिव्यांगजन, विधवा और निराश्रित महिलाओं को पेंशन इसी माह में भेज दें। इन सभी को भेजी जाने वाली अगली किश्त 8-9 अप्रैल तक चली जाए। योगी ने कोरोना को लेकर स्वास्थ्य विभाग की तरफ से बनाए गए कमांड सेटंर को इंटीग्रेटेड करते हुए उसे सीएम हेल्पलाइन, 108 और 112 से जोड़ने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में किसी भी प्रकार की आपदा से निपटने के लिए एक इंटीग्रेटेड कमांड सेंटर स्थापित करें, जिससे किसी भी आपदा के आने पर समय पर रिस्पांस किया जा सके। मुख्यमंत्री ने कहा जिन शहरों को लॉक डाउन किया गया है वहां सप्लाई चेन को व्यवस्थित करें। लोगों को कोई दिक्कत न हो इसके लिए मंडी परिषद फलों और सब्जी बेचने वालों को चिन्हित कर मोहल्लों और कॉलोनियों में भेजें। इसके साथ ही इस बात का ध्यान रखें कि लोगों की भीड़ न लगे, ज्यादा दाम पर बिक्री न की जाए और लोग जमाखोरी न करने पाएं। इसी तरह से दूध की भी आपूर्ति की जाए। योगी ने कहा कि प्रदेश के किसी भी जनपद में बिजली और पानी की व्यवस्था में भी कोई दिक्कत नहीं आनी चाहिए। बैठक में मुख्य सचिव आरके तिवारी, प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री एसपी गोयल, प्रमुख सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन, प्रमुख सचिव वित्त संजीव मित्तल, अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी समेत अन्य विभागों के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद रहे। हिन्दुस्थान समाचार/ पीएन द्विवेदी/राजेश
... क्लिक »

hindusthansamachar.in