धान फसल बचाने किसानों की भीड़ हाथियों को भगाने जंगल में घुसी, वन विभाग की टीम ने किसानों को लौटाया
धान फसल बचाने किसानों की भीड़ हाथियों को भगाने जंगल में घुसी, वन विभाग की टीम ने किसानों को लौटाया
news

धान फसल बचाने किसानों की भीड़ हाथियों को भगाने जंगल में घुसी, वन विभाग की टीम ने किसानों को लौटाया

news

धमतरी, 10 सितंबर ( हि. स.)। हाथियों के दल से किसानों के तैयार धान फसल पर खतरा मंडराने लगा है। तीन से चार किसानों के धान फसल को हाथियों ने रौंदकर नुकसान पहुंचाया है। फसल बचाने किसानों की भीड़ गुरुवार को हाथियों को खदेड़ने जंगल में घुस गई, जिसे वन विभाग की टीम ने लौटाया। क्योंकि हाथियों को छेड़ने से किसानों की जान को खतरा हो सकता है। डीएफओ अभिताभ बाजपेयी ने बताया कि हाथियों का दल मगरलोड ब्लाक के ग्राम खडमा के जंगल के आसपास ठहरा हुआ था। हाथियों का यह दल रात होते ही जंगल से लगे किसानों के खेतों पर पहुंच जाता हैं और तैयार फसल को नुकसान पहुंचाता है। किसानों के खेतों में इन दिनों धान फसल तैयार होने लगी है, लेकिन तैयार फसल को नुकसान होता देख चिंतित आसपास गांव के किसान पिछले दो दिनों से लाठी व अन्य सामग्री लेकर हाथियों को खदेड़ने जंगल में जा रहे हैं, जिससे उनकी जान को खतरा बना हुआ है। वन विभाग ने कहा है कि किसान चिंता न करें। जिन किसानों की धान फसल को हाथी नुकसान पहुंचाएंगे, उस क्षेत्र का सर्वे कराकर शासन से प्रभावित किसानों को मुआवजा दिया जाएगा। उन्होंने किसानों और ग्रामीणों से अपील की है कि जान को जोखिम में डालकर हाथियों को खदेड़ने जंगल में न जाए। हाथी उन पर कभी भी हमला कर सकते हैं। डीएफओ अमिताभ बाजपेयी ने बताया कि खड़मा व आसपास गांवों में कोटवारों के माध्यम से मुनादी करा दी गई है कि वे अकेले जंगल में न जाएं। खेतों की देखरेख भी सावधानी बरतते हुए करें, क्योंकि इन दिनों 21 हाथियों की दल क्षेत्र में घूम रहा है। वे कभी भी, कहीं भी आ सकते है। ऐसे में जान का खतरा बना हुआ है। उल्लेखनीय है कि जब से गांव के जंगल में हाथियों की झुंड पहुंचा है, तब से क्षेत्र के ग्रामीण शाम होते ही घरों के पास आग जलाकर सोते हैं। क्योंकि हाथी आग से डरते हैं। हिन्दुस्थान समाचार / रोशन-hindusthansamachar.in