दुर्ग लोकसभा सांसद विजय बघेल का पांचवे दिन अनशन समाप्त,  राज्यपाल के आश्वासन पर तोड़ा अनशन
दुर्ग लोकसभा सांसद विजय बघेल का पांचवे दिन अनशन समाप्त, राज्यपाल के आश्वासन पर तोड़ा अनशन
news

दुर्ग लोकसभा सांसद विजय बघेल का पांचवे दिन अनशन समाप्त, राज्यपाल के आश्वासन पर तोड़ा अनशन

news

दुर्ग, 18 अक्टूबर (हि. स.)। प्रदेश की राज्यपाल सुश्री अनुसुइया उइके से मिले आश्वासन के बाद पांचवे दिन रविवार को लोकसभा सांसद विजय बघेल द्वारा अनशन समाप्त कर दिया गया। अनशन पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह तीन कैबिनेट मंत्री सहित भारी संख्या मे भाजपा कार्यकर्ताओं की उपस्थिति में अनशन समाप्त हुआ। दुर्ग एवं बेमेतरा जिले से भारी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता पहुंचे । भाजपा कार्यकर्ताओं के द्वारा भी अनशन समाप्ति पर अपनी सहमति दी। शनिवार को पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह के द्वारा राज्यपाल से मुलाकात की गई थी । मुलाकात के दौरान राज्यपाल ने आश्वस्त किया था। कि गृह सचिव से इस मामले में रिपोर्ट ली जाएगी। हालांकि जिस मांग को लेकर के दुर्ग सांसद द्वारा आमरण अनशन की शुरुआत की गई थी। वह दोनों ही मांग अभी भी अधूरी है। गिरफ्तार किए गए तीनों ही कार्यकर्ता जेल में बंद है। साथ ही सभी 11 भाजपा कार्यकर्ताओं के खिलाफ अपराध पंजीबद्ध है। आज धरना स्थल पर पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह कैबिनेट मंत्री रामविचार नेताम, बृजमोहन अग्रवाल एवं प्रेम प्रकाश पांडे भी पहुंचे। अपने संबोधन में पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह ने कहा कि लोकसभा सांसद विजय बघेल को इस जिले के जनता ने जिस मान सम्मान के साथ सांसद बनाया है। उसी जिले के कार्यकर्ताओं को जेल में डालना अन्याय हैं । जिला पंचायत सदस्य हर्षा चंद्राकर के द्वारा महिलाओं की पीड़ा को व्यक्त किया गया है। प्रदेश में भय आतंक को लूट एवं खसोट की सरकार है। इसको बदलने का संकल्प कहां से शुरू करना है, इसकी जमीन भी भूपेश ने ही तय कर दी है भूपेश ने ही विजय से कहा कि जाओ पाटन से ही इसकी शुरुआत करो । तीन कार्यकर्ताओं को जेल में डाल कर बड़े खुश हो रहे हो हमने आपातकाल को भी देखा है इंदिरा के आतंक को भी देखा है। तुम्हारी कचहरी तुम्हारी पुलिस देख ली है, इन्हीं विचारों के साथ इसलिए एक नारा पाटन से पटना तक आवाज जानी चाहिए । कितनी लंबी जेल तुम्हारी देख लिया है देख लेंगे कितना दम है कितना दमन है देख लिया है देख लेंगेे, भूपेश तेरी तानाशाही नहीं चलेगी अभी तो अंगड़ाई है आगे और लड़ाई है, नारा दिया गया । डॉ रमन सिंह ने मंच से यह भी आरोप लगाया कि शराब दुकानों के माध्यम से प्रदेश सरकार के द्वारा 30% अवैध शराब का विक्रय किया जा रहा है, यह पैसा भूपेश के पास जाता है कि दिल्ली में जाता है। इसका हिसाब देना ही पड़ेगा। रेत माफियाओं के हाथ में नदियां दे गई है। कोल माफिया द्वारा प्रति टन 25 रुपए की वसूली की जा रही है। पूर्व मंत्री प्रेम प्रकाश पांडेय ने कहा कि कांग्रेस की सरकार के अत्याचार से हम हमेशा लड़ते रहेंगे। भाजपा का जन्म विरोध करने के लिए हुआ है। यहां लड़ाई किस बात को लेकर हो रही है। मांग क्या है। शराबबंदी की मांग कर रहे हैं। शराब दुकान , लॉकडाउन के समय खोली गई है और बेची जा रही है। पूर्व वरिष्ठ मंत्री राम विचार नेताम ने अपने संबोधन में कहा कि इस की तपन पूरे प्रदेश तक पहुंचेगी। भाजपा कार्यकर्ताओं को सभी बुराइयों का जवाब दे ना आता है। पाटन की धरती से शुरुआत हुई हैं। इस अवसर पर नगर निगम भिलाई चरोदा की महापौर चंद्रकांता मांडले, नगर निगम भिलाई के पूर्व महापौर निर्मला यादव, रायपुर जिला भाजपा के पूर्व अध्यक्ष राजीव अग्रवाल, रजनी विजय बघेल, पूर्व संसदीय सचिव लाभचंद बाफना, मोतीलाल साहू कैलाश शर्मा , पूर्वा विधायक डोहनलाल कोसेवाडा, प्रदेश महामंत्री नारायण सिंह चंदेल पूर्व मंत्री रामशिला साहू, पूर्व अध्यक्ष सीता साहू, विधायक विद्या रतन भसीन, डॉ बालमुकुंद देवांगन सहित हजारों की संख्या में कार्यकर्ता उपस्थित थे। हिंदुस्थान समाचार/अभय जवादे-hindusthansamachar.in