जादू-टोने के संदेह में 03 ग्रामीणों की हत्या के मामले में 37 को आजीवन कारावास
जादू-टोने के संदेह में 03 ग्रामीणों की हत्या के मामले में 37 को आजीवन कारावास
news

जादू-टोने के संदेह में 03 ग्रामीणों की हत्या के मामले में 37 को आजीवन कारावास

news

नारायणपुर,15 अक्टूबर (हि.स.)। जिले में ग्राम माहका के घोटुल में 06 वर्ष पहले घटित जादू-टोने के संदेह में 03 ग्रामीणों की हत्या के मामले में न्यायालय ने गुरुवार को इसमें शामिल 37 आरोपियों काे आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। गाण्डोराम, घासीराम, रैजूराम, गंगाराम, दामू कचलाम, बासू कचलाम, चैतरामकचलाम, घसियाराम सलाम, रस्सू सलाम, भदरू करंगा, बुलकी करंगा, ढेलूकरंगा, असाडू करंगा, सोनवा करंगा, सन्केर उईके, मंगडू करंगा, सोनूकरंगा, दलु करंगा, सन्तु करंगा, सन्तेर करंगा, सिंगलुराम कुमेटी, कावेकुमेटी, दुकलू कुमेटी, रैनु कौडे, कोलू कौडो, सनउराम कौडो, घस्सूरामबुई, पितराम बुई, रैयसिंह बुई, दुलार सिंह, रतन सिंह, सुकमन, पीलू, प्रदीप,सुदरन, फागूराम व घस्सू को आजीवन कारावास और जुर्माने की सजा सुनाई है। उल्लेखनीय है कि न्यायालय में प्रस्तुत अभियोजन के अनुसार 20 दिसंबर 2014 को नारायणपुर जिले के ग्राम माहका के घोटुल में ग्रामीणों की बैठक हुई थी। जिसमें गांव के घड़वाराम के घरवालों को भी बुलाया गया। बैठक में ग्रामीणों ने घड़वाराम के परिवार पर जादू-टोना करने का आरोप लगाते हुए ग्रामीणों द्वारा बांस व डंडों से की गई पिटाई किये जाने से गंभीर रूप से घायल घड़वाराम की पत्नी दसरीबाई व बेटी रामवती बाई की मौत हो गई, घटना के बाद ग्रामीणों ने दोनों के शवों को जला दिया। वहीं घड़वाराम को अधमरा छोड़ दिया। इस वारदात के तीन दिन बाद मारपीट की घटना में जख्मी घड़वाराम की भी मौत हो गई थी। नारायणपुर थाने में आरोपियों के विरुद्ध विभिन्न धाराओं के तहत एफआईआर दर्ज की गई थी। एक ही परिवार के 03 लोगों की हत्या के मामले में सामूहिक रूप से कुल 39 आरोपी थे, जिनमें से दो आरोपियों पुनऊ कचलाम और मंगेल करंगा की मौत मामले की सुनवाई के दौरान हो गई थी, वहीं 37 आरोपियों को अपर सत्र न्यायालय द्वारा उम्रकैद की सजा सुनाई गई है, सभी आरोपियों को जेल भेज दिया गया है। हिन्दुस्थान समाचार/राकेश पांडे-hindusthansamachar.in