छात्राओं ने फर्राटेदार अंग्रेजी में कोविड विपत्ति को अवसर में बदलने का दिया प्रमाण, मोहल्ला क्लास कार्यक्रम में अप्लाइड अंग्रेजी की कक्षाएं
छात्राओं ने फर्राटेदार अंग्रेजी में कोविड विपत्ति को अवसर में बदलने का दिया प्रमाण, मोहल्ला क्लास कार्यक्रम में अप्लाइड अंग्रेजी की कक्षाएं
news

छात्राओं ने फर्राटेदार अंग्रेजी में कोविड विपत्ति को अवसर में बदलने का दिया प्रमाण, मोहल्ला क्लास कार्यक्रम में अप्लाइड अंग्रेजी की कक्षाएं

news

भिलाई नगर, 18 अक्टूबर (हि.स.)। कोविड 19 की विपत्ति को अवसर में बदलने का एक बेहतर प्रयास शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय वैशाली नगर के अध्यापकों और विद्यार्थियों ने किया। आज जब कई शैक्षणिक संस्थान कोरोनाकाल में ऐहतियातन बंद हैं, तब लाॅकडाउन में स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम के तहत स्कूल की अनेक छात्राओं ने ऑनलाइन इंग्लिश क्लासेस कर हायर एजुकेशन और कैरियर निर्माण में आवश्यक अंग्रेजी भाषा के महत्व को न सिर्फ समझा, बल्कि इस भाषा पर अपनी पकड़ भी मजबूत की। स्कूल द्वारा कोविड 19 कन्वर्टिंग एडवर्सिटी इनटू अपोर्चुनिटी विषय पर आयोजित ऑनलाइन प्रोग्राम में लगभग बीस छात्राओं ने फर्राटेदार अंग्रेजी में अपने विचार व्यक्त करते हुए हिन्दी माध्यम स्कूल के अन्य विद्यार्थियों के लिए एक आदर्श भी प्रस्तुत किया। छात्रा संध्या चौहान, मोनिका पटनायक, लक्ष्मी कल्पुरिया, दर्शना मदने, मीना साहू, भूमिका, दाक्षी साहू, हरिन्द्रा चौहान, वंदना मौर्या ने कहा कि अगर सीखने की चाहत हो तो पूरा आसमान आपका हो सकता है, करोना महामारी के दौर में हम सबने सीखने की ललक से एक नया आयाम हासिल किया है। शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक शाला वैशाली नगर की प्राचार्य संगीता सिंह बघेल ने कहा कि आज जब विश्व के 214 देश करोना महामारी से ग्रसित हो चुके हैं तथा कम या ज्यादा हर देश इससे प्रभावित हैं, इस प्रकार के वैश्विक महामारी के समय में शैक्षणिक गतिविधियों को जारी रख पाना बहुत ही मुश्किल होता है। यह एक शिक्षक की जिम्मेदारी होती है कि वह इन परिस्थितियों में भी अपने छात्रों को सकारात्मक एवं रचनात्मक बनाए रखें। जब तक शिक्षक में अतिरिक्त समर्पण न हो तथा पठन-पाठन के प्रति विशेष लगाव न हो तो छात्रों का मनोबल बढ़ाना व उनका साहस बनाए रखना मुश्किल होता है। ऐसे में हमारे जिला शिक्षा अधिकारी प्रवास सिंह बघेल रामाचारी शैक्षणिक प्रयासों के लिए प्रेरित करते रहे हैं। उन्होंने कहा कि व्याख्याता नंदिता प्रकाश के द्वारा यह अभिनव प्रयास किया गया। प्राचार्य बघेल ने बताया कि छात्राओं को परंपरागत शिक्षा प्रदान करने के साथ-साथ उनमें कौशल विकास को विकसित करने का कार्य किया जा रहा है। इसके लिए मोहल्ला क्लास कार्यक्रम के अंतर्गत अप्लाइड अंग्रेजी की कक्षाएं लगाई जा रही हैं। इन कक्षाओं में कक्षा दसवीं से बारहवीं तक की छात्राएं लाभान्वित हो रही हैं। नंदिता प्रकाश ने पूरा विश्वास जताया कि ये छात्राएं न केवल दुर्ग जिले का अपितु छत्तीसगढ़ प्रदेश व देश का भी नाम रोशन करेंगी। छात्राओं की प्रतिभा को सामने लाने के लिए करोना आपदा को अवसर में बदलना विषय पर ऑनलाइन समूह वार्तालाप के इस आयोजन में ऑनलाइन लिंक के माध्यम से प्रदेश के कई प्राचार्यगण, शिक्षकगण, मीडिया हाउसेस व छात्र शामिल हुए। हिन्दुस्थान समाचार/अभय जवादे-hindusthansamachar.in