छत्तीसगढ़:विधानसभा में उठा मानव तस्करी का मामला,गृह मंत्री पर सदन को गलत जानकारी देने का आरोप
छत्तीसगढ़:विधानसभा में उठा मानव तस्करी का मामला,गृह मंत्री पर सदन को गलत जानकारी देने का आरोप
news

छत्तीसगढ़:विधानसभा में उठा मानव तस्करी का मामला,गृह मंत्री पर सदन को गलत जानकारी देने का आरोप

news

रायपुर ,23 दिसंबर (हि.स.)। छत्तीसगढ़ विधानसभा के शीतकालीन सत्र का बुधवार को तीसरा दिन है। तीसरे दिन सदन में गांजा एवं मानव तस्करी का मामला उठा । कांग्रेस के लखेश्वर बघेल ने सदन में गांजा तस्करी के मामले को लेकर कहा कि तस्करी को रोकने के लिए सीमा पर निगरानी बढ़ाई जानी चाहिए। गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि जल्द ही अफसरों की बैठक लेकर चेक पोस्ट पर निगरानी बढ़ाएंगे। इस दौरान गृहमंत्री ने स्वीकार किया कि दूसरे राज्यों से गांजा आता है। मानव तस्करी के मामले में पूर्व मुख्यमंत्री भाजपा के डॉ रमन सिंह ने गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू पर सदन को गलत जानकारी देने का आरोप लगाया। डॉ रमन सिंह ने मानव तस्करी की परिभाषा पूछी थी, जिस पर गृहमंत्री साहू ने कहा था कि यदि 150 दिनों तक गुम बच्चों की जानकारी सामने नहीं आती तो इसे मानव तस्करी के बारे में माना जाता है। जिस पर रमन सिंह ने कहा की परिभाषा स्पष्ट है ,जो मंत्री नहीं बता पा रहे हैं। पूर्व सीएम रमन सिंह ने मानव तस्करी के रोकथाम के लिए की जा रही कार्रवाई की जानकारी मांगी। रमन सिंह ने पूछा कि इसको लेकर स्टेट कमेटी ने क्या-क्या निर्णय लिया? क्या इसके लिए किसी अधिकारी की नियुक्ति की गई? डॉ रमन सिंह ने यह भी पूछा क्या राजनांदगाँव सहित राज्य के अन्य ईलाकों से मानव तस्करी का मामला सामने आया है। डॉ. रमन सिंह ने यह भी पूछा कि राज्य और जिलों में इसे लेकर कमेटी बनाई है, बैठक कब -कब हुई है ,उसका नोटिफिकेशन कब हुआ। जिस पर गृह मंत्री ने कहा कि नोटिफिकेशन की तारीख अलग से बता देंगे। पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि जानकारी में बताया गया है कि कवर्धा में 2017 से अब तक मानव तस्करी का कोई मामला नहीं बताया गया है, लेकिन कवर्धा के एक बच्चे को आंध्रप्रदेश वेल्लूर से लाया गया है और 2 लोगों की गिरफ्तारी हुई है। फिर इसे कैसे जीरो प्रकरण बताया जा रहा है। बस्तर से जशपुर तक पूरे प्रदेश भर में मानव तस्करी का मामला चल रहा है। उन्होंने कहा कि सदन में अधिकारी गलत जानकारी उपलब्ध करा रहे हैं, उनके खिलाफ कार्यवाही होनी चाहिए ।डोंगरगढ़ का पीड़ित परिवार खुद सामने आकर मानव तस्करी की जानकारी दे रहा है ,ऐसी घटनाओं को रोकने सरकार ने क्या कार्य योजना बनाई है। जिसके जवाब में गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू ने कहा कि डोंगरगढ़ की घटना में आरोपितों की गिरफ्तारी हुई है जिसमें 8 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है । इसके बाद पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि गृह मंत्रालय भारत सरकार का निर्देश है कि हर जिले में एंटी ह्यूमन ट्रैफिकिंग यूनिक को मजबूत किया जाए ।क्या इस यूनिट को संज्ञान में लेकर सभी जिलों में कमेटी बनाने का प्रयास करेंगे। जिसका गृहमंत्री ने 8 जिलों में इसे शुरू किए जाने की जानकारी देते हुए कहा कि बाकी जिलों में एसपी इस सेल को शुरू कर रहे हैं। भाजपा के वरिष्ठ सदस्य अजय चंद्राकर ने इसे गंभीर मामला बताया और कहा कि इसका जवाब सदन में आना चाहिए। हिन्दुस्थान समाचार /केशव शर्मा-hindusthansamachar.in