कोरोना के कारण व्यवसाय हुआ प्रभावित, कई दुकानों में हुई कर्मचारियों के छुट्टी
कोरोना के कारण व्यवसाय हुआ प्रभावित, कई दुकानों में हुई कर्मचारियों के छुट्टी
news

कोरोना के कारण व्यवसाय हुआ प्रभावित, कई दुकानों में हुई कर्मचारियों के छुट्टी

news

धमतरी। 10 सितंबर ( हि. स.)। कोरोना वायरस के संक्रमण ने पूरे देश की अर्थव्यवस्था को काफी प्रभावित किया। धमतरी जिले के व्यवसाय को भी इसके कारण काफी असर पड़ा है। संक्रमण के कारण जिले की कई दुकान बंद हो गई, तो वहीं कई दुकानों में कर्मचारियों की छंटनी भी हो गई। एक अनुमान के मुताबिक धमतरी जिले में छह माह के दौरान 100 करोड का व्यवसाय प्रभावित हुआ है। न तो बस चल रही हैं और नहीं उद्योग धंधों ने ढंग से रफ्तार पकड़ी है, ऐसे में लोगों के सामने हताश- परेशान होने के सिवाय कुछ नहीं है, जो व्यवसाय और स्कूल लोन लेकर चल रहे थे। उन्हें भी किस्त पटाने में काफी दिक्कतें आ रही हैं। आवक है ही नहीं तो भला कहां से लोन की किश्त पटाएँ। आरबीआई द्वारा दी गई किस्त टालने की सुविधा पहले तीन माह और बाद में दो माह की राहत भी कुछ असर नहीं डाल रही है। इससे सभी हताश परेशान हैं। शहर के नए बस स्टैंड में जिले के चार सौ से अधिक चालक-परिचालक हड़ताल पर हैं, जो लगातार सरकार से राहत की मांग कर रहे हैं। भाजपा के पूर्व जिलाध्यक्ष रामू रोहरा ने कहा कि लॉक डाउन ने व्यवसायियों की कमर तोड़ दी है। आरबीआई द्वारा बैंक की किश्त पटाने की जो राहत दी गई है, उससे कुछ फर्क नहीं पड़ने वाला, क्योंकि बाद में बैंकों द्वारा ब्याज की राशि ली जाएगी तब व्यापारियों को फिर से परेशान होना पड़ेगा। इस ओर प्रदेश सरकार को ध्यान देने की आवश्यकता है, ताकि व्यवसायी फिर से अपने पैरों पर खड़े हो सकें। लीड बैंक मैनेजर पीके राय ने बताया कि लॉकडाउन से बैंक सेक्टर में कॉफी असर पड़ा है, क्योंकि इस दौरान बैंकों को आम जनता से बैंक द्वारा दिए गए लोन की किस्तें नहीं मिल पाई, साथ ही अन्य व्यवसाय भी बुरी तरह प्रभावित हुआ है। लोगों को राहत देने का प्रयास भी हुआ है। लॉकडाउन के दौरान केंद्र सरकार के निर्देश पर लघु उद्योगों और आम जनता को किश्त जमा करने में राहत दी गई थी, पहले यह राहत तीन अप्रैल, मई और जून माह तक थी, जिसे बाद में फिर से बढ़ाकर जुलाई और अगस्त तक किया गया। इसके बाद अब ग्राहकों को बैंक की किस्त पटानी होंगी। हिन्दुस्थान समाचार / रोशन-hindusthansamachar.in