कृषि वैज्ञानिकों ने गोष्ठी में कृषकों को कराया कृषि से जुड़े पहलुओ से रूबरू
कृषि वैज्ञानिकों ने गोष्ठी में कृषकों को कराया कृषि से जुड़े पहलुओ से रूबरू
news

कृषि वैज्ञानिकों ने गोष्ठी में कृषकों को कराया कृषि से जुड़े पहलुओ से रूबरू

news

बलरामपुर, 22 नवम्बर (हि.स.)। इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के प्रमुख वैज्ञानिक डाॅ. एमके सिंह अपने टीम के साथ रविवार को जिले प्रवास पर पहुंचे। इस दौरान उन्होंने कृषि से जुड़ी विभिन्न गतिविधियों का अवलोकन किया। इसके उपरांत कृषक संगोष्ठी में शामिल होकर कृषकों को तकनीक का उपयोग कर कृषि पद्धतियों सें कम भूमि पर कम समय में अच्छी आय हासिल करने के लिए महत्वपूर्ण जानकारियां दी। कृषि विज्ञान केन्द्र बलरामपुर के वैज्ञानिक डाॅ. वीएन गौतम ने बताया कि जिले के ग्राम पंचायत झलरिया, खरसोता, भैसामुण्डा, रामनगरकला में रहने वाले विशेष पिछड़ी जनजातीय समुदाय के कृषकों को जोड़कर अरहर की खेती प्रक्षेत्रवार कराया जा रहा है। इन सभी प्रक्षेत्र का भ्रमण डाॅ. एम.के.सिंह अपने टीम के साथ किया। इस दौरान कृषकों के लिए आयोजित संगोष्ठी में डाॅ. एम.के.सिंह ने अरहर की फसल में लगने वाले रोग के संबंध में जानकारी दी। अरहर उत्पादन में कीट तथा बीमारियों से बचाव एवं प्रबंधन के बारे में कृषकों से विस्तारपूर्वक चर्चा की। उन्होंने कहा कि कृषक अरहर की उत्पादकता बढ़ाने के लिए टीजेटी-501 किस्म की अरहर लगाने का सुझाव भी दिया। डाॅ. एमके सिंह ने आदिवासी उपयोजना के अंतर्गत प्रमुख रूप से बीज उत्पादन के लिए किये जा रहे अरहर की फसल प्रक्षेत्र का अवलोकन किया है। कृषि विज्ञान केन्द्र के वैज्ञानिक डाॅ. वीएन.गौतम ने इस संबंध में चर्चा करने पर बताया कि कृषि विज्ञान केन्द्र द्वारा कृषकों को कृषि से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियां तथा उन्नत कृषि के लिए प्रशिक्षण एवं सहयोग प्रदान करना है। इसके अलावा विशेष पिछड़ी जनजातीय समुदाय जो दशकों से कृषि के कार्यों पर एक फसली पुरानी पद्धति से करने की वजह से जरूरत अनुसार आय हासिल नहीं कर पाते थे। इन्हें वर्तमान समय अनुसार मुख्यधारा सें जोड़ने व बहुफसलीय कृषि कार्यो पर नवीन तकनीक कृषि पद्धति के प्रति जानकारियों को आसानी से समझकर आर्थिक रूप से अधिक से अधिक आय अर्जित हासिल करने में जुड़ सकें। इस आयोजन के दरम्यान कीट विज्ञान विशेषज्ञ केंद्र बलरामपुर के अनिल कुमार सोनपाकर तथा शस्य विज्ञान विशेषज्ञ पी.आर.पैंकरा भी शामिल हुए। हिन्दुस्थान समाचार/विक्की-hindusthansamachar.in