काम करने के छह माह बाद भी मजदूरों को मजदूरी भुगतान नहीं
काम करने के छह माह बाद भी मजदूरों को मजदूरी भुगतान नहीं
news

काम करने के छह माह बाद भी मजदूरों को मजदूरी भुगतान नहीं

news

गुदगुदा के मजदूर पहुंचे कलेक्टोरेट धमतरी 7 सितंबर ( हि. स.)। वन विभाग में काम करने के छह माह बाद भी मजदूरों को मजदूरी का भुगतान नहीं किया गया है। आर्थिक तंगी से जूझ रहे मजदूरों ने कलेक्टर के नाम ज्ञापन सौंप शीघ्र मजदूरी दिलाने की गुहार लगाई है। मजदूरी के लिए वे लंबे समय से दफतरों का चक्कर काट रहे हैं। ग्राम गुदगुदा के मजदूर दयालू राम निषाद, कन्हैया राम, ललित कुमार, घनश्याम यादव, त्रिलोचन राम, पोखराज साहू आदि सात सितंबर सोमवार को कलेक्टोरेट पहुंचे। कलेक्टर के नाम सौंपे ज्ञापन में शिकायत करते हुए मजदूरों ने बताया है कि मार्च 2020 में इन मजदूरों से ग्राम गुदगुदा में वन विभाग ने पौधारोपण कराया। पौधारोपण के लिए मजदूरों ने गड्ढा खुदाई, पोल, फेसिंग तार लगाने समेत कई कार्य किए है। कार्य समाप्त होने के बाद जब मजदूरों ने मजदूरी देने की मांग वन विभाग के अधिकारियों से की, तो मजदूरी की प्रकि्रया जारी है, जल्द ही मजदूरी का भुगतान करने की बात कहते हैं। यह कहकर मजदूरों को छह माह से घुमाया जा रहा है। मजदूरों ने बताया कि काम करने के बाद भी वे लंबे समय से मजदूरी नहीं मिलने के कारण आर्थिक तंगी से जूझ रहे हैं, जबकि उन्हें वन विभाग से काम करने के एवज में हजारों रूपये मजदूरी लेना है। लॉकडाउन जैसे महत्वपूर्ण समय पर वन विभाग के अधिकारी-कर्मचारियों ने इन मजदूरों पर किसी तरह कोई रहम नहीं दिखाई। आर्थिक तंगी के समय मजदूरी भुगतान नहीं किया। मजदूरों ने बताया कि क्वार माह में अब मजदूरों के पास कामकाज नहीं है, ऐसे में उन्हें जीवनयापन के लिए रूपये की सख्त जरूरत है। रूपये के अभाव में वे ठीक से जीवन यापन नहीं कर पा रहे हैं। कलेक्टर से गुहार लगाते हुए मजदूरों ने वन विभाग से शीघ्र मजदूरी राशि दिलाने की मांग की है। यदि उन्हें समय रहते मजदूरी मिल जाती है, तो उनको कुछ राहत मिल जाएगी। हिन्दुस्थान समाचार / रोशन-hindusthansamachar.in