बड़ी खबरें

बाल विवाह रोकने के निर्णय तो प्रभावी लेकिन औपचारिकता हावी

 नोखा क्षेत्र में पिछले तीन वर्षों में तीन-चार शिकायतें हुई मगर कार्रवाई के नाम पर मात्र खानापूॢत रही है। बाल विवाह के मुद्दे पर क्षेत्र के कई लोगों से हुई बातचीत में एक पॉजिटिव बात भी सामने आई कि समय के बदलाव के साथ अब लोगों की सोच भी बदल रही है। अभिभावकों व बच्चों खासकर बालिकाओं में जागरुकता आई है। विवाह की औसत आयु बढ़ रही है। नोखा क्षेत्र में एक-डेढ़ दशक पहले तक 12 से 14 वर्ष के बच्चों के फेरे होना आम बात थी। लेकिन अब 16 से 18 वर्ष के बाद ही शादी करने की सोचते हैं। गांवों में शिक्षा के फैलाव से बाल विवाह के विरोध में जागरुकता भी बढ़ी है। संचार के साधन भी अनापशनाप बढ़ गए। कोई भी बालिका
rajasthanpatrika.patrika.com
पूरी स्टोरी पढ़ें »

rajasthanpatrika.patrika.com से अधिक समाचार

सबसे लोकप्रिय

©Copyright Indicus Netlabs 2017. Raftaar ® is a registered trademark of Indicus Netlabs Pvt. Ltd.