Breaking News

बड़ी खबरें

मुसलमानों को देशभक्ति का सबूत देने की जरूरत नहीं, देश के विकास में उनका प्रमुख योगदान

मुसलमानों को देशभक्ति का सबूत देने की जरूरत नहीं, देश के विकास में उनका प्रमुख योगदान

देश में समय-समय पर राष्ट्रवाद को लेकर उठने वाली बहस और उत्तर प्रदेश प्रशासन द्वारा मदरसों में स्वतंत्रता दिवस समारोह की विडियो रिकॉर्डिंग का निर्देश दिए जाने पर प्रमुख मुस्लिम बुद्धिजीवियों ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। कुछ प्रमुख मुस्लिम बुद्धिजीवियों और वरिष्ठ पत्रकारों ने रविवार को कहा कि 'मुसलमानों को अपनी देशभक्ति साबित करने की जरूरत नहीं है क्योंकि आजादी की लड़ाई और देश की प्रगति में उनका प्रमुख योगदान रहा है।' गैर सरकारी संगठन 'अमन' की ओर से 'राष्ट्रवाद और भारतीय मुसलमान' विषय पर आयोजित संगोष्ठी में इस्लमी विद्वान और दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष
navbharattimes.indiatimes.com
पूरी स्टोरी पढ़ें »

©Copyright Indicus Netlabs 2017. Raftaar ® is a registered trademark of Indicus Netlabs Pvt. Ltd.