बड़ी खबरें

त्रास्दी: वो तैरना नहीं जानता था, तेल के ड्रम के सहारे म्यंमार से आ गया बांग्लादेश

त्रास्दी: वो तैरना नहीं जानता था, तेल के ड्रम के सहारे म्यंमार से आ गया बांग्लादेश

नबी हुसैन ने जिंदा रहने की अपनी सबसे बड़ी जंग एक पीले रंग के प्लास्टिक के ड्रम के सहारे जीती रोहिंग्या मुसलमान किशोर नबी की उम्र महज 13 साल है और वह तैर भी नहीं सकता। म्यामां में अपने गांव से भागने से पहले उसने कभी करीब से समुद्र नहीं देखा था उसने म्यामां से बांग्लादेश तक का समुद्र का सफर पीले रंग के प्लास्टिक के खाली ड्रम पर अपनी मजबूत पकड़ के सहारे लहरों को मात देकर पूरा किया करीब ढाई मील की इस दूरी के दौरान समुद्री लहरों के थपेड़ों के बावजूद उसने ड्रम पर अपनी पकड़ नहीं छोड़ी म्यामां में हिंसा की वजह से सहमे रोहिंग्या मुसलमान हताशा में अपना घरबार सब कुछ छोड़ कर वहां से निकलने
abpnews.abplive.in
पूरी स्टोरी पढ़ें »

अन्य सम्बन्धित समाचार

abpnews.abplive.in से अधिक समाचार


©Copyright Indicus Netlabs 2017. Raftaar ® is a registered trademark of Indicus Netlabs Pvt. Ltd.