बड़ी खबरें

स्मार्ट सिटी में परिवर्तित हो रहा फरीद बाबा का शहर

स्मार्ट सिटी में परिवर्तित हो रहा फरीद बाबा का शहर

सुशील भाटिया फरीदाबाद मेरा असली नाम तो किस्सा खानी चौक है पर पहचान नीलम चौक के नाम से है। कई मजदूर आंदोलनों का गवाह रहा हूं जिसमें अपने हकों की मांग कर रहे मजदूरों ने शहादत भी दी और देश विभाजन के समय उत्तरी-पश्चिमी सीमांत प्रांत(अब पाकिस्तान) के विभिन्न जिलों से विस्थापित होकर आए लोगों के पुरुषार्थ से बसे न्यू इंडस्ट्रियल टाउन यानी एनआइटी फरीदाबाद का प्रवेश द्वार भी हूं। आजादी के इन 70 सालों में मैंने कई परिवर्तन देखे हैं। आजादी के समय बाबा फरीदाबाद की इस नगरी की पहचान मेंहदी वाले बागों के रूप में थी जो सुहागिनों के हाथों पर जब रचती थी तो इसकी भीनी-भीनी खुशबू दूर तक लोगों
www.jagran.com
पूरी स्टोरी पढ़ें »

www.jagran.com से अधिक समाचार


©Copyright Indicus Netlabs 2017. Raftaar ® is a registered trademark of Indicus Netlabs Pvt. Ltd.