बड़ी खबरें

साफ-सफाई करने में किस बात की है शर्म

साफ-सफाई करने में किस बात की है शर्म

जासं आजमगढ़ : स्वच्छता जीवन मूल्यों को समझने का मर्म है तो फिर इसे करने में क्यों शर्म है। 16 एकड़ के विस्तृत भू-भाग में फैले हर्रा की चुंगी स्थित राजकीय पालीटेक्निक परिसर में शुक्रवार को स्वच्छता के लिए प्रधानाचार्य इफ्तेखार अहमद के नेतृत्व में सफाई अभियान चलाया गया। इस नेक पहल में संस्था के अधिकारियों व कर्मचारियों ने भी छात्रों के साथ जमकर पसीना बहाया। प्रधानाचार्य ने बताया कि स्वच्छता की मुहिम लोगों की आदत में शुमार हो। इसलिए हमें व्यक्तिगत साफ-सफाई के साथ सार्वजनिक स्वच्छता अभियान में अवश्य शामिल होना चाहिए। बताया कि अनादि काल से साफ-सफाई का मानव सभ्यता में महत्वपूर्ण
www.jagran.com
पूरी स्टोरी पढ़ें »

©Copyright Indicus Netlabs 2017. Raftaar ® is a registered trademark of Indicus Netlabs Pvt. Ltd.