Breaking News

बड़ी खबरें

पेट्रोल की ऊंची कीमतों पर बोले जेटली, सार्वजनिक खर्च के लिए राजस्व की जरूरत होती है

पेट्रोल की ऊंची कीमतों पर बोले जेटली, सार्वजनिक खर्च के लिए राजस्व की जरूरत होती है

जेटली ने इस बात का कोई संकेत नहीं दिया कि सरकार पेट्रोल और डीजल से उत्पाद शुल्क की दरों में कटौती कर सकती है वित्त मंत्री ने कहा कि राज्यों द्वारा ईधन पर ऊंचा बिक्रीकर और वैट लिया जाता है हालांकि उन्होंने इस बात का जिक्र नहीं किया कि नवंबर 2014 से जनवरी 2016 के दौरान पेट्रोल पर उत्पाद शुल्क 1177 रुपये प्रति लीटर बढ़ा है जबकि डीजल पर इसमें 1347 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि हुई है इससे अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों में आई गिरावट का लाभ गायब हो गया भाजपा शासित महाराष्ट्र में पेट्रोल पर वैट की दर 4652 प्रतिशत है  मुंबई में यह 4764 प्रतिशत तक है आंध प्रदेश में पेट्रोल पर 3882 प्रतिशत
www.samaylive.com
पूरी स्टोरी पढ़ें »

अन्य सम्बन्धित समाचार


©Copyright Indicus Netlabs 2017. Raftaar ® is a registered trademark of Indicus Netlabs Pvt. Ltd.