बड़ी खबरें

किसानों की कर्ज माफी किए जाने से बैंकों को 27,420 करोड़ रुपये तक का नुकसान हो सकता है।

यदि उत्तर प्रदेश की नई सरकार चुनाव प्रचार में किए गए वादे के अनुसार इसके अलावा सरकार के राजकोषीय घाटे का गणित भी गड़बड़ा सकता है। देश के सबसे बड़े सार्वजनिक बैंक एसबीआई की रिपोर्ट में यह बात कही है। बीजेपी ने यूपी चुनाव से पहले अपने मेनिफेस्टो में सत्ता में आने पर किसानों के कर्ज माफ किए जाने का ऐलान किया था। बीजेपी और उसके सहयोगी दलों ने 403 सदस्यों वाली विधानसभा में से 325 सीटें जीत ली हैं इसके बाद से ही किसानों की कर्ज माफी को लेकर बातें उठने लगी हैं। सोमवार को जारी की गई एसबीआई की रिसर्च रिपोर्ट के अनुसार कर्मशल बैंकों के 8624120 करोड़ रुपये किसानों पर बकाया हैं। औसतन प्रति कर्जधारक
hindi.economictimes.indiatimes.com
पूरी स्टोरी पढ़ें »

अन्य सम्बन्धित समाचार

सबसे लोकप्रिय

©Copyright Indicus Netlabs 2017. Raftaar ® is a registered trademark of Indicus Netlabs Pvt. Ltd.