बड़ी खबरें

फिजुलखर्ची रोकने के लिए बिना बैंडबाजों की शादी

फिजुलखर्ची रोकने के लिए बिना बैंडबाजों की शादी

लहार। नईदुनिया न्यूजआमतौर पर शादी का नाम आते ही बैंडबाजों के साथ रंग-बिरंगी आतिशबाजी और लजीज खाने की तस्वीर जेहन में घूमने लगती हैं लेकिन लहार कस्बे में रविवार को एक अनोखी शादी हुई। इस शादी में न तो बैंडबाजा था और न ही दूल्हा घोड़ी पर चढ़कर आया। यहां वर-वधु ने सिर्फ 16 मिनट 32 सेकंड में गुरु संत रामपाल महाराज की तस्वीर रखकर और बंदी छा़ेड गरीब दास महाराज द्वारा लिखित भजन 'असुर निकंदन रमैनी को सुनकर एक-दूसरे माला पहनाकर शादी संपन्न की। यह है पूरा मामला : उत्तर प्रदेश के जिला जालौन तहसील कोंच के ग्राम खकल्ल निवासी भगतमति आराधना पुत्री भगत रामप्रकाश दास की शादी भिंड के लहार निवासी
naidunia.jagran.com
पूरी स्टोरी पढ़ें »

©Copyright Indicus Netlabs 2017. Raftaar ® is a registered trademark of Indicus Netlabs Pvt. Ltd.