बड़ी खबरें

जिले में बाल अपराधों पर नहीं लग पा रहा अंकुश

जिले में बाल अपराधों पर नहीं लग पा रहा अंकुश

इस साल जिले में 23 बच्चे आपराधिक वारदातों का शिकार हो चुके हैं। इनमें 12 की हत्या जबकि आठ बालिकाएं दुष्कर्म का शिकार हो चुकी हैं। वहीं एक बालक के साथ कुकर्म भी हुआ था। दो बच्चों का अपहरण भी हो चुका है। अधिकांश वारदात बच्चों के स्कूल आते-जाते या घर के बाहर खेलते समय हुई हैं। वहीं जिले में नवजातों को फेंकने के भी कई मामले सामने आ चुके हैं। पटियाली क्षेत्र में दो नवजात खेत में पड़े मिले थे। ऐसे मामलों में पुलिस की सुस्ती से अपराधियों के हौसले बुलंद हैं।बाल अपराध में सिढ़पुरा संवेदनशीलकासगंज। बच्चों के साथ होने वाले अपराधों में सिढ़पुरा क्षेत्र काफी संवेदनशील है। अब तक हुई वारदातों
www.amarujala.com
पूरी स्टोरी पढ़ें »

©Copyright Indicus Netlabs 2017. Raftaar ® is a registered trademark of Indicus Netlabs Pvt. Ltd.